Tag: कबूल

कबूल – मेरी शायरी……. बस तेरे लिए

कबूल सकून मिलता नहीं सिर्फ उसे देख लेने से …………………… उसको बाहों में भर लेने का दिल करता है ना जाने मेरी मोहब्बत उसे कबूल हो के ना हो …