Tag: ऐ जिंदगी

ऐ जिंदगी — डी. के. निवातिया

ऐ जिंदगी बहुतो को तरसाया तूने बहुतो को रुलाया है बड़ी मशरूफ और मगरूर है तू ऐ जिंदगी न जाने कितनो का दिल तूने दुखाया है जरा ये भी …