Tag: आध्यात्मिक प्रेम

वायु के पंछी

वायु के पंछी गीतों के फूल चुनते हैं, बरसात की झड़ी बरसकर फिर व्याकुलता से जाने किसकी राहें देख रहीं, कौन जाने आज गगन का ह्रदय इतनी ज़ोर-ज़ोर क्यूँ …