Tag: आज हम फिर बँट गए ज्यों गड्डियां हो तास की

आज हम फिर बँट गए ज्यों गड्डियां हो तास की

नरक की अंतिम जमीं तक गिर चुके हैं आज जो नापने को कह रहे , हमसे बह दूरियाँ आकाश की आज हम महफूज है क्यों दुश्मनों के बीच में …