Author: zeba khan

तू पास भी हो तो दिल बेक़रार अपना है / फ़राज़

तू पास भी हो तो दिल बेक़रार अपना है के हमको तेरा नहीं इंतज़ार अपना है मिले कोई भी तेरा ज़िक्र छेड़ देते हैं के जैसे सारा जहाँ राज़दार …

जिससे ये तबियत बड़ी मुश्किल से लगी थी / फ़राज़

जिससे ये तबीयत बड़ी मुश्किल से लगी थी देखा तो वो तस्वीर हर एक दिल से लगी थी तन्हाई में रोते हैं कि यूँ दिल के सुकूँ हो ये …

रंजिश ही सही दिल ही दुखाने के लिए आ / फ़राज़

रंजिश ही सही दिल ही दुखाने के लिए आ आ फिर से मुझे छोड़ के जाने के लिए आ कुछ तो मेरे पिन्दार-ए-मुहब्बत का भरम रख तू भी तो …

जब तेरी याद के जुगनू चमके / फ़राज़

जब तेरी याद के जुगनू चमके देर तक आँख में आँसू चमके सख़्त तारीक है दिल की दुनिया ऐसे आलम में अगर तू चमके हमने देखा सरे-बाज़ारे-वफ़ा कभी मोती …

अब नये साल की मोहलत नहीं मिलने वाली / फ़राज़

अब नये साल की मोहलत नहीं मिलने वाली आ चुके अब तो शब-ओ-रोज़ अज़ाबों वाले अब तो सब दश्ना-ओ-ख़ंज़र की ज़ुबाँ बोलते हैं अब कहाँ लोग मुहब्बत के निसाबों …

किसी से दिल की हिक़ायत कभी कहा नहीं की / फ़राज़

किसी से दिल की हिक़ायत कभी कहा नहीं की, वगर्ना ज़िन्दगी हमने भी क्या से क्या नहीं की, हर एक से कौन मोहब्बत निभा सकता है, सो हमने दोस्ती-यारी …

ख़ुशबू का सफ़र / फ़राज़

ख़ुशबू का सफ़र छोड़ पैमाने-वफ़ाकी बात शर्मिंदा न कर दूरियाँ ,मजबूरियाँ,रुस्वाइयाँ, तन्हाइयाँ कोई क़ातिल ,कोई बिस्मिल, सिसकियाँ, शहनाइयाँ देख ये हँसता हुआ मौसिम है मौज़ू-ए-नज़र वक़्त की रौ में …

कुछ न किसी से बोलेंगे / फ़राज़

कुछ न किसी से बोलेंगे तन्हाई में रो लेंगे हम बेरहबरों का क्या साथ किसी के हो लेंगे ख़ुद तो हुए रुसवा लेकिन तेरे भेद न खोलेंगे जीवन ज़हर …

किताबों मे‍ मेरे फ़साने ढूँढते हैं / फ़राज़ यहां जाएं: भ्रमण, खोज

किताबों में मेरे फ़साने ढूँढते हैं, नादां हैं गुज़रे ज़माने ढूँढते हैं । जब वो थे तलाशे-ज़िंदगी भी थी, अब तो मौत के ठिकाने ढूँढते हैं । कल ख़ुद …

करूँ न याद मगर किस तरह भुलाऊँ उसे / फ़राज़

करूँ न याद मगर किस तरह भुलाऊँ उसे ग़ज़ल बहाना करूँ और गुनगुनाऊँ उसे वो ख़ार-ख़ार है शाख़-ए-गुलाब की मानिन्द मैं ज़ख़्म-ज़ख़्म हूँ फिर भी गले लगाऊँ उसे ये …

कठिन है राहगुज़र थोड़ी दूर साथ चलो / फ़राज़

कठिन है राहगुज़र थोड़ी दूर साथ चलो बहुत बड़ा है सफ़र थोड़ी दूर साथ चालो तमाम उम्र कहाँ कोई साथ देता है मैं जानता हूँ मगर थोड़ी दूर साथ …

ऐसे चुप हैं के ये मंज़िल भी कड़ी हो जैसे / फ़राज़

ऐसे चुप हैं कि ये मंज़िल भी कड़ी हो जैसे तेरा मिलना भी जुदाई कि घड़ी हो जैसे अपने ही साये से हर गाम लरज़ जाता हूँ रास्ते में …

एक बार ही जी भर के सज़ा क्यूँ नहीं देते ? / फ़राज़

एक बार ही जी भर के सज़ा क्यूँ नहीं देते ? मैं हर्फ़-ए-ग़लत हूँ तो मिटा क्यूँ नहीं देते ? मोती हूँ तो दामन में पिरो लो मुझे अपने, आँसू हूँ …

उसने कहा सुन / फ़राज़

उसने कहा सुन अहद निभाने की ख़ातिर मत आना अहद निभानेवाले अक्सर मजबूरी या महजूरी की थकन से लौटा करते हैं तुम जाओ और दरिया-दरिया प्यास बुझाओ जिन आँखों …

उसको जुदा हुए भी ज़माना बहुत हुआ / फ़राज़

उसको जुदा हुए भी ज़माना बहुत हुआ अब क्या कहें ये क़िस्सा पुराना बहुत हुआ ढलती न थी किसी भी जतन से शब-ए-फ़िराक़ ऐ मर्ग-ए-नागहाँ तेरा आना बहुत हुआ …

इज़्हार / फ़राज़

इज़्हार पत्थर की तरह अगर मैं चुप रहूँ तो ये न समझ कि मेरी हस्ती बेग़ान-ए-शोल-ए-वफ़ा है तहक़ीर से यूँ न देख मुझको ऐ संगतराश! तेरा तेशा मुम्किन है …

अजब जूनून-ए-मुसाफ़त में घर से निकला था / फ़राज़

अजब जूनून-ए-मुसाफ़त में घर से निकला था, ख़बर नहीं है कि सूरज किधर से निकला था, ये कौन फिर से उन्हीं रास्तों में छोड़ गया, अभी अभी तो अज़ाब-ए-सफ़र …

हर्फ़े-ताज़ा की तरह क़िस्स-ए-पारीना / फ़राज़

हर्फ़े-ताज़ा की तरह क़िस्स-ए-पारीना कहूँ कल की तारीख़ को मैं आज का आईना कहूँ चश्मे-साफ़ी से छलकती है मये-जाँ तलबी सब इसे ज़हर कहें मैं इसे नौशीना कहूँ मैं …

तेरा क़ुर्ब था कि फ़िराक़ था / फ़राज़

तेरा क़ुर्ब था कि फ़िराक़ था वही तेरी जलवागरी रही कि जो रौशनी तेरे जिस्म की थी मेरे बदन में भरी रही तेरे शहर से मैं चला था जब …

संगदिल है वो तो क्यूं इसका गिला मैंने किया / फ़राज़

संगदिल है वो तो क्यूं इसका गिला मैंने किया जब कि खुद पत्थर को बुत, बुत को खुदा मैंने किया कैसे नामानूस लफ़्ज़ों कि कहानी था वो शख्स उसको …