Author: shivani

ईमानदारी

गंगा की लहरों में, मस्जिद की सीढ़ियों पे, आवाज़ दब जाती है, मंदिर के घंटो में, मस्जिद की आज़ान में, खोजते है मुआल्वी पंडित, भगवान अल्लाह के मानने वालों …