Author: शशिकांत शांडिले

==* नजफ़ हैदर की पढ़ाई *==

नजफ़ हैदर जेएनयू में इतिहास के प्रोफ़ेसर है उनके बोल पर मेरे बोल…………. नजफ़ हैदर बोल रहे है पद्मावती एक कहानी है पद्मावत साहित्य से आई ऐतिहासिक परछाई है …

◆Mind न करो भाई◆

लो अब आजम बतायेंगे क्या थे काम राजपूतों के पूछे जरा बापसे अपने कारनामे राजपूतों के संभल कर बात कर पगले कहीं न हो म्यान खाली अभी सोये नही …

==* उसे भारत भूमि कहते है *==

जहाँ देश को दर्जा माँ का है जहाँ माँ को देवी कहते है जहाँ भावनाओं की गंगा बहती उसे भारत भूमि कहते है ।।   जहाँ भाँति भाँति की …

==* जहाँ मैं खड़ा था *== (गजल)

नजारा नशीला जहाँ मैं खड़ा था गवारा नही लौटना मैं खड़ा था नदी सामने बेतहाशा हसीं थी न मंजूर वो भापना मैं खड़ा था जरासा डरा मैं तजुर्बा न …

==* याद मे ये नैन रोये यार आजा *==

(गजल ) वृत्त: मंजुघोषा गालगागा गालगागा गालगागा याद तेरी रोज आये यार आजा याद में ये नैन रोये यार आजा सामने है वो नजारे लौट आने प्यार तेरा और …

==* मछली थी फोकट की *==

(मुंबई में घटी सड़क दुर्घटना) मछली थी फोकटकी जान की ना कीमत थी भरी सड़क पर कोई मरा देखने की ना फुरसत थी बिखरी पड़ी थी गाड़ियां सड़क खून …

==* पानी रे पानी *==

पानी रे पानी तेरा रंग कैसा इंसान की रोती सूरत जैसा पानी रे पानी तेरा रंग कैसा ठहरी नदी में जलचर जैसा पानी रे पानी तेरा रंग कैसा खड़े …

==* दो टुकड़ो में पड़ी थी बेटी *==

(हाल ही में घटी एक घटना पर आधारित) दो टुकड़ो में पड़ी थी बेटी तड़प तड़पकर माँ को पुकारे माँ मै तुझसे प्यार हु करती जैसे हो माँ मुझे …

तारीफ़

तेरी निगाहों की करू क्या तारीफ़ मै लहराती जुल्फों की अदा भारी है चले तो तेरी पैंजन छनछनती प्यारी पहनी जो गुलाबी साड़ी न्यारी है ————-//**– शशिकांत शांडिले, नागपुर …

==* नशीला है सागर *==

नशीला है सागर ये आंखे जो तेरी डूब जाऊ मैं उनमें जी चाहता है लबों की वो प्यारी सी मुस्कान तेरी तेरे साथ हसने को जी चाहता है नशीला …

==** धड़कनों को तेरे संभाला तो होता **==

गम मनाऊ तो कैसे रिश्ता तो होता चल सके साथ मेरे फरिश्ता तो होता गया छोड़ दुनिया वो मर्जी थी तेरी मोहोब्बत का मेरे यूँ सौदा न होता बात …

==* उनका क्या कर पायेंगे *==

गद्दारों को पकड़ पकड़ कर कैसे मार गिरायेंगे छुपकर बैठे दामन में माँ के उनका क्या कर पायेंगे खैर वो तो दुश्मन, दुश्मन ठैरे आतंकवाद बढायेंगे अपने भाई जो …

==* समशान नजर आता है *== (गजल)

जर्रा-जर्रा इस घर का समशान नजर आता है दर-दिवार से आंगन सुनसान नजर आता है ! जी रहा हूँ मगर बेख़ौफ़ मैं रोज इस घर में देख कर आईना …

==* अश्क बहाये मैने तुमने *==

अश्क बहाये मैने तुमने इश्क कितना हमको सताये चाहत कैसी हम दोनो की क्यू तडपाये इतना रुलाये अश्क बहाये मैने तुमने !! सारी उमर का साथ नही ये दर्द …

==* स्वतंत्रता दिवस *==

बड़े शिद्दत से चंद दिन हिंदुस्तान याद किया जायेगा फिर हमेशा की तरह हिंदुस्तान भुला दिया जायेगा होली दिवाली की तर्ज पर स्वतंत्रता दिवस मनाया जायेगा फिर हमेशा की …

==* अब से एकांत ही ….. *==

अब न कोई ख़्वाब आँखों में होगा हर दर्द मोहोब्बत का दिल में होगा हरगिज न होगी जरुरत किसीकी हर वक्त वो साथी खयालो में होगा न होगी चाहत …

==* कैसे कह दे की बावफा है जिंदगी *==

अब ना उम्मीद-ए-वफा है जिंदगी ! जानें क्यों मुझसे खफा है जिंदगी !! यूँ तो शिकायत नही अब किसी से ! अपने ही वजुद से जफा है जिंदगी !! …

==* तुमबिन *==

तेरी खूबसूरत अदाओ के सदके उमर ये बिताऊ तुझे याद करके तुझे देखकर अब जीना है मुझको छुपालू तुम्हे अाओ बाहो मे भरके आँखे नशीली लबो की वो लाली …

==* मेरी मोहोब्बत *==

माना की हसीं वहम है मोहोब्बत मगर बड़ी ही बेरहम है मोहोब्बत चाहते भी क्या थी इस नादाँ दिलकी वफ़ा में जो पाया जख्म है मोहोब्बत चाहो भी शिद्दतसे …