Author: साक्षी प्रजापति

लहू का टीका

वतन फिर तुझको पैमाने-वफ़ा देने का वक़्त आया तिरे नामूस पर सब कुछ लुटा देने का वक़्त आया वह ख़ित्ता देवताओं की जहां आरामगाहें थीं जहां बेदाग़ नक़्शे-पाए-इंसानी से …

सफ़-ए-अव्वाल से फ़क्त एक ही मयक्वार उठा

सफ़-ए-अव्वाल से फ़क्त एक ही मयक्वार उठा । कितनी सुनासान है तेरी महफ़िल साकी ।। ख़त्म हो जाए न कहीं ख़ुशबू भी फूलों के साथ, यही खुशबू तो है …

निगाहों दिल का अफसाना

निगाहों दिल का अफ़साना करीब-ए-इख्तिताम आया । हमें अब इससे क्या आया शहर या वक्त-ए-शाम आया ।। ज़बान-ए-इश्क़ पर एक चीख़ बनकर तेरा नाम आया, ख़िरद की मंजिलें तय …

गीतों में मेरे डूबो तो

मेरे अंतस में मत झाँको आँख तुम्हारी नम होगी गीतों में मेरे डूबो तो पीड़ाएँ कुछ कम होंगी । जीवन तो मृगतृष्णाओं के जंगल जैसा है जैसा तुमने सोचा …

खूँटियों पर टँगे हैं लोग

नेकी बदी की गठरी बाँधे खूँटी-खूँटी टँगे हैं लोग किसे क्या बताएँ सब अपने रंगों में ही रंगे हैं लोग । दुनिया लगती है बेमानी आसमान झूठा लगता है …

धूप क दोहे

पिघले सोने सी कहीं बिखरी पीली धूप। कहीं पेड़ की छाँव में इठलाता है रूप। तपती धरती जल रही, उर वियोग की आग। मेघा प्रियतम के बिना, व्यर्थ हुए …

चांदनी

एक हिंदी ग़ज़ल : चांदनी क्या शरारत वहां कर रही चांदनी-? रात भर खिडकियों पर रही चांदनी। मैं तुम्हारे लिये गीत गाने लगा- इसलिये आजकल डर रही चांदनी। सब तुझे …

गर ज़मीं ……..

एक ग़ज़ल : गर ज़मीं …….. गर ज़मीं आशियाँ बनाने को- तो फलक बिजलियाँ गिराने को। किस तरह से कहें फ़साने को, हर तरह उज्र है ज़माने को। हमने चाहा …

चांदनी

एक हिंदी ग़ज़ल : चांदनी क्या शरारत वहां कर रही चांदनी-? रात भर खिडकियों पर रही चांदनी। मैं तुम्हारे लिये गीत गाने लगा- इसलिये आजकल डर रही चांदनी। सब तुझे …

इक मुसाफिर ने कारवां पाया

एक ग़ज़ल इक मुसाफिर ने कारवां पाया। कातिलों को भी मेहरबां पाया. मेरे किरदार की शफाक़त ने- हर कदम एक इम्तिहाँ पाया। जुस्तजू में मिरी वो ताक़त है- तुझको …

तुम मुझसे बस शब्द और सुर ले पाये

तुम मुझसे बस शब्द और सुर ले पाये- पर बोलो ! कैसे छीनोगे मुझसे मेरे गीत-? मुझको तो बस गीत सुनाना आता है, होंठो पर संगीत सजाना आता है गहरा …

सूखते होंठों पे हमको तिश्नगी अच्छी लगी

सूखते होंठों पे हमको तिश्नगी अच्छी लगी। जिंदगी जीने की ऐसी बेबसी अच्छी लगी। इस नुमाइश ने दिखाए हैं सभी रंजो-अलम- इस नुमाइश की हमें ये तीरगी अच्छी लगी …

इक मुसाफिर ने कारवां पाया

एक ग़ज़ल इक मुसाफिर ने कारवां पाया। कातिलों को भी मेहरबां पाया. मेरे किरदार की शफाक़त ने- हर कदम एक इम्तिहाँ पाया। जुस्तजू में मिरी वो ताक़त है- तुझको …

रोक पाएंगीं क्या ………

एक ग़ज़ल : “रोक पाएंगीं क्या ………” रोक पाएंगीं क्या सलाखें दो-? जब तलक हैं य’ मेरी पांखें दो । जिसने सबको दवा-ए-दर्द दिया- आज वो माँगता है- साँसें दो …

कोई हमदम या……………

ग़ज़ल : कोई हमदम या…………… कोई हमदम या कोई कातिल दो। मेरी कश्ती को एक साहिल दो. अब तो तन्हाइयां नहीं कटतीं- दे रहे हो तो दोस्त-महफ़िल दो। चांदनी में …

बाद मुद्दत के …….

एक ग़ज़ल : बाद मुद्दत के ……. बाद मुद्दत के इक हंसी देखी। एक मजलूम की खुशी देखी। उनको देखा तो यूँ लगा मुझको- जैसे बर-बह्र शाइरी देखी। दिल के …

वे संबोधन

एक गीत ;”वे संबोधन—-” वे संबोधन याद करो । अपने विगत क्षणों से प्रियतम- थोडा तो संवाद करो । अधरों ने विस्मृत करने का बहुत अधिक आयास किया है । …

गीत गाते रहे गुनगुनाते रहे

गीत गाते रहे गुनगुनाते रहे। रात भर महफिलों को सजाते रहे। सबने देखी हमारी हंसी और हम- आंसुओं से स्वयं को छुपाते रहे। सुर्ख फूलों के आँचल ये लिख …

बिकने के चलन में यहाँ चाहतें उभारों में हैं

बिकने के चलन में यहाँ चाहतें उभारों में हैं हम तुम बाज़ारों में हैं बेटे का प्यार बिका है माँ का सत्कार बिका है जीवन साथी का पल-पल महका …

बाँट दिए घट तट पनघट सब

बाँट दिए घट तट पनघट सब भाव बेग तन-मन बाँटे हैं आँगन घर उपजे काँटे हैं हम अनैतिहासिक अनुश्रुति से हैं अनुस्यूत अनूतर कृति से सदाचार के हाट सजाए …

प्यार का निराला युग हूँ

प्यार का निराला युग हूँ न यूँ अनमना कर देखो मुझे गुनगुना कर देखो मन दर्पण में बस तुम हो सुधि सावन में बस तुम हो श्वाँस-श्वाँस मेरे पूजन …