Author: Muskaan

उसने..

प्यार मे बीते जिन्दगी बस यही आरजू थी हमारी , और इसी ख्वाहिश का बड़ी खूबी से इस्तमाल किया उसने !! दूरियां गर प्यार बडाती तो वो आज होते …

जो देखोगे दर्पन तो हम आयेंगें नजर

जो देखोगे दर्पन तो हम आयेंगें नजर, ना मिटा सकोगे वो लकीरे जो दिखेंगी उम्र भर, वक्त बे वक्त अपने अक्स से पूछ्ना, क्या पाया क्या खोया तुने सफर …

बन्नो मेरी…

बन्नो मेरी कैसे भेजूं तुझे ससुराल, क्या रख पाएगा तेरा बन्ना तेरा मुझ सा खयाल !! तू है मासूम कली सी कोमल, मुरझा जाएगी जब देखेगी इस दुनिया मे …

हम नजर आयेंगे

बारिश की बूंदों मे तुम्हे हम नजर आयेंगे, झाकोंगे जब खिड्की से अनजाने नन्हे फरिश्ते नजर आयेंगे, दूंढ नही पाओगे कोई अपना उस अजनबी भीड़ मे , क्योंकि हर …

बारिश और जिन्दगी

खुशनुमा यादो की रिमझिम के सहारे, बीतेगी अब सारी जिन्दगी आगे, दर्द भरे सूखे पलो को भुलाके, तू जी ले जिन्दगी हंसते गाते !! बारिश की ्मस्त मस्त बून्दो …

ख्वाब

सूरत ऐ शक्ल क्या बयान करते हैं, इन्सान के हालात तो सपने बयान करते हैं, ख्वाबों की मेह्फिल सदा सजाये रखना, क्योकि ख्वाब ही तुझे अपना बनाये रखते है …