Author: roshan soni

“””””””दिल-ए-नादान””””””

“””””””दिल-ए-नादान”””””” ऐ दिल-ए-नादान, बन ना इतना अनजान कहने को है, तू मुझमे, धड़के तू उसके नाम | क्यों अपने आप की करता है ? क्यों ना सुनता है तू …

माँ ,मम्मी, अम्मी या आई

“””””””””माँ,मम्मी,अम्मी या आई”””””””””” कैसे समझाऊँ?, कैसे बतलाऊं?, वो नारी मेरा मान है सबसे है अलग, सबसे है जुदा, वो मेरा अभिमान है | सिर्फ दर्द नही, हर ख़ुशी में …

“””””सियासी खेल- जातिवाद”””””

“””””सियासी खेल- जातिवाद””””” भारत के सियासी खेल में , मोहरे हैं बने हम सब शतरंज में मोहरे स्याह -शवेत, सियासत में खेल जाति का ग़ज़ब | लड़वा-भीड़वा ये शोक …

“”””कवि ना बन जाऊँ- ऐ निकिता”””

“”””कवि ना बन जाऊँ- ऐ निकिता””” मैं चाहूँ तुझको इतना, कैसे बतलाऊ कितना जो कहे मुझे बतलाने को , देखूं सागर में पानी जितना | बाँटें जो संग में …

बिटिया

**बिटिया** दुनिया का भी दस्तूर है जुदा, तू ही बता ये क्या है खुदा? लक्ष्मी-सरस्वती, हैं चाह सभी की, क्यों दुआ कहीं ना इक बेटी की ? सब चाहे …

“”बलात्कारी- कोई कर्म से, कोई सोच से””

“”बलात्कारी- कोई कर्म से, कोई सोच से”” कोई कर्मो से है लज्जित करता,कितनों की सोच गई मारी | करने वाला है जितना निर्लज,भद्दे सांत्वना दिखाने वाला भी है बलात्कारी …

“”””””””दोस्त- जो मैंने पाये”””””

“””””””””दोस्त- जो मैंने पाये””””” परिभाषा की मोहताज नहीं, शब्द ऐसा है दोस्त ,, हिंदी में बहोत ज़रूरी, अंग्रेजी में “इम्पोर्टेन्ट मोस्ट” | कुछ खट्टी-कुछ मीठी यादों का, कुछ राज़ …