Author: Rituraj191

माँ

कैसे मैं इस दर्द में हूँ माँ, जहाँ कैसे इस सर्द में हूँ माँ, साथी नहीं ना संगी कोई, दुआएं तेरी बस संग हैं अब माँ, ख्वाब नहीं देखा …