Author: meeralamba87@gmail.com

एक शब्द बस तेरे लिए………

एक शब्द बस तेरे लिए……… नवीन शब्दों को पिरोया नवीन रचना की माला मे….. जाने कहाँ से धुल उडी….मेरे मोतियों को धूमिल कर दिया……………. लेखिका – मीरा देवी …..

मेरी डायरी के पन्ने- भाग -५ लेखक – मीरा देवी

मेरी डायरी के पन्ने- भाग -५ लेखक – मीरा देवी नारी प्रेम का मंदिर है, आदमी प्रेम पुजारी है ये बात है बरसो पहले की, अब तो सोच ही …

मेरी डायरी के पन्ने- भाग -३

खूब हसीं चेहरा है , निगाहें क्या क़यामत है, उफ़ ये मदमस्त जवानी, लाखो दिलो पे आफत है, भीगी- भीगी ज़ुल्फो से जब बुँदे शबनम की टपकती है, लाखो …

मेरी डायरी के पन्ने- भाग- १

मेरी डायरी के पन्ने- भाग- १ सरे बाजार ढूंढ़ता हूँ गुजरे ज़माने को एक शमा ही काफी है पूरा घर जलाने को सरे बाजार ढूंढ़ता हूँ गुजरे ज़माने को …