Author: Kajalsoni

मेरी कलम 10…..काजल सोनी

कामयाबी ने फरमान भेजा कि पा ले मुझे….. मगर जिम्मेदारी ने मेरे वहाँ तक पहुँचने न दिया…….! खुले दिल का था जो हारता रहा सबसे….. मगर खुशमिजाजी ने मेरे …

मेरी कलम 8…….काजल सोनी

मुश्किल घड़ी में अपने बड़े याद आते हैं मगर कोई अपने आते नहीं……। इंसान की गलतियों में लोग सभी समझाते हैं मगर उसे समझते नहीं…….। किसी की हार में …

जमाना….. काजल सोनी

लोग डरते हैं जमाने से….. कि जमाना क्या कहेगा…. और अक्सर फैसले बदल दिया करते हैं….. जो फैसला नहीं बदलते….. वो आशिक कहे जाते हैं या पागल….. पर जमाना …

जिंदगी की किताब…… काजल सोनी

तीन पन्ने हैं हमारी जिंदगी की किताब में…. पहला पन्ना पलट चुका है जिसे हम दुबारा नहीं पलट सकते …… तीसरा पन्ना जो वक्त आने पर खुद ब खुद …

सागर….. काजल सोनी

बडी़ साधगी है तुझमें सागर…… गहराई का तुझको नाज नहीं…… दे जाता है मजबूत लहरें…… समेट लेता सब कुछ खुद में…… बयां करता जीवन की सच्चाई….. कि मेरा कल …

ख्वाहिशें……. काजल सोनी

हजारों रंग लिये….. ये ख्वाहिशें…. बसे सातवें आसमान पर….. कुछ अपने….. कुछ अनसुलझे…… कुछ मजबूत इरादों से बंधे…… ये दर्द भी देते….. और मकसद भी….. गहराई इतनी की खो …