Author: Kajalsoni

तुम मिलो न मिलो…… काजल सोनी

तुम मिलो न मिलो……. मुझे किसी राह पर…… सफर है मेरी जिंदगी का…… मुझे तो चलना पड़ेगा……. भले धुप हो मेरे जिस्म पर……. आग हो मेरे कदमों तले……. राह …

राधे राधे…… काजल सोनी

राधा ने एक दिन श्याम से पूछा, क्यूँ बुलाते हैं तुम्हें मेरे नाम से पूछा। श्याम मुस्कुराये, पलके झुकाये । तुम ही मेरा दिन हो, तुम ही मेरी रात …

“मेरे ख्वाबों में जो लड़की है”………. काजल सोनी

मेरे ख्वाबों में जो लड़की है , वो मुझको सिखाती हैं । मै जितना प्यार करता हूँ वो मुझे उतना सताती हैं । बड़ी प्यारी सी है वो मासूम, …