Author: आशफाक खोपेकर

मेरा भारत महान।

ऐसा होगया है आज मेरा हिन्दुस्तान। बेवकुफ भी खोलता है यहॉ धर्म की दुकान। बेवजह लडाई मे मश्गुल यहॉ हिन्दु मुस्लमान। फिक्र न करता कोई शहीद होरहे है हमारे …

“अधुरी तमन्ना”

“अधुरी तमन्ना” ऑखो से ऑसु निकलने से पहले मेरी तक्लिफ दुर होने वाली है। अम्मी मेरी अब मुझे बेहद खुशी से अपने गले लगाने वाली है । बसेरा था …

न सुधरा है इन्सान

फितरत मे इन्सान के बसी है नाफरमानी । छोडदी जन्नत उसने पर न छोडी मनमानी। तकब्बुर मे करता है कमब्खत हरदम नादानी। फना होगये कई रुस्तम तवंगर बनगये कहानी। …

”सोच ” & ”करभलातो होगाभला”

रोशन करदे सब के दिलो को सोच ऐसी बनाए रखना।………………………………………………………….. दिल मे सफाई होटोंपे सच्चाई जबांपर मीठास बनाए रखना।………………………………………………….. हर लम्हा हसीन हर पल खुशयॉ देगा लालच से दुरी …

एक तरफ़ा मोहब्बत ‘

”एक तरफ़ा मोहब्बत ” झुकी हुयी नजरो से वो इशारों ही इशारो मे इझहारे मोहब्बत कर गयी।. कातीलाना नजरो से धडकनो मे दिल की मेरे ईज़ाफा गज़ब का कर …

मेहंगी आझादी

लुत्फ उठावो आझादी का यारों दुआओं में शहीदो को याद करके।. बडी मेहंगी मीली है हमें ये आझादी कई अपनो को कुर्बान करके।. तरक्की मे रोडे डालरख्खे है अपनो …

खुश रहने का ईलाज

खुश रहने का एक है ईलाज रखना नजर हमेशा खुद से छोटों के पास।. बचायेंगी झुकी नजर ठोकरो से ऊँची नजर लेजाएगी मुश्किलो के पास।. ग़मगीन है कई ऐसे …

फकीरी

आख़लाक़ नदारत हो ऐसे इल्म से जहालत भली।. तकब्बुर लेआए ऐसी दौलत से मुफ़लिसी भली। तन्दुरस्ती सलामत रखे जो ऐसी फकीरी भली।. बुराई करे सत्यानाश हम भले तो दुनिया …

इम्तेहान नही होते दोस्ती मे

इम्तेहान नही होते दोस्ती मे जब दो जिस्म एक जान होते है दोस्ती मे।. कुर्बानीयो का जज्बा निखर आता है सच्ची दोस्ती मे।. कमजोर पडजाते है रिश्ते फिर भी …

जियो जीने दो

नफरत के बीज पिरोकर शौहरत दौलत हासील करते है आज ।. खिलवाड मजहबो से करने वालो को ही पहनाया जाता है ताज।. खौफेखुदा को भुलकर मौज मस्ती मे मश्गुल …

कुर्बानी

कुर्बानीयो से ही टल जाती है मुसीबते। कुर्बानीयो से हीे हासील होती है नियामते।. कुछ खोकर ही कुछ मीलता है यहॉ यारो।. नाकारों पर मेहरबान कुदरत भी नही होती …

जीहाद

दुआओं का असर खत्म करदेंगी आह मजलुमो की।. जहान्नुम ही लेजाएगी बद्दूआ मासूमो की ।. जन्नत की झुटी लालच से बरबाद न करो मासुमो को।. चीर कर अर्श खुदा …