Author: ANU MAHESHWARI

ज़िन्दगी का सच – अनु महेश्वरी

कुछ, पाकर खोया, कुछ, खोकर पाया यही तो है, ज़िन्दगी का सच, कोई नहीं, सकता इससे बच, जाना जिसने, इस राज को, समझदार, कहलाता है वो, जीवन भी उसका, …

रिश्तों का तानाबाना – अनु महेश्वरी

बचपन से बुढ़ापे तक के सफर में, रिश्तों का तानाबाना बुनते बुनते, हम एक जाल सा बुन तो लेते है, पर ज़िन्दगी के अंतिम पड़ाव में, कुछ, साथ छोड़ …

खो रहे संस्कार – अनु महेश्वरी

आधी अधूरी अंग्रेजी बोल, ज्ञानी खुद को है माने, राम को कहे है देखो रामा, और वेद को कहे है वेदा| अपने गलतियों से मुँह मोड़, ज़माने में ढूंढे …

ज़िन्दगी एक विश्वास है – अनु महेश्वरी

ज़िन्दगी, एक विश्वास है, थामे अपनों का हाथ, ज़िन्दगी, ख़ुशी के दो आंसू है, संघर्ष के बाद, ज़िन्दगी, कोमल कोंपल है, पतझड़ के बाद, ज़िन्दगी, बारिश की दो बुँदे …

ए ज़िन्दगी तू जरा आहिस्ता चल – अनु महेश्वरी

ए ज़िन्दगी, तू जरा आहिस्ता चल, मुझे जरा सा सुस्ता लेने दे, दुनिया के हर हंसी पल, अपनी झोली में, भर लेने दे| ठंडी हवा के झोंके, जो अक्सर …

मुस्कुरा बोलना सीखे हम – अनु महेश्वरी

ज़िन्दगी उतनी भी कठिन नहीं है, जितनी मुश्किल हमने खड़ी की है| थोड़ा सा, अहंकार अपना करे कम, थोड़ा सा, मुस्कुरा बोलना सीखे हम| किसी से बराबरी, अगर न …

राह में कभी कभी – अनु महेश्वरी

राह में कभी कभी, ऐसे लोग मिल जाते है, अंजान होते हुए भी, हमे खुशियां दे जाते है| ऐसे लोगो से मिलकर, अक्सर यही लगता है, इंसानियत अभी भी, …

कैसे बनेगी कोई बात – अनु महेश्वरी

कैसे सुधरेंगे हालात, कैसे बनेगी कोई बात, कथनी और करनी में, जब तक रहेगा विरोधाभास| कैसे कायम रहेगा विश्वास, कैसे बढ़ेगा सच का मान, चलता रहेगा झूठ धरल्ले से, …

विश्वास हमारा बना रहे – अनु महेश्वरी

ऐसी दया हम पे करो हे भगवन, तुझ पे, विश्वास हमारा, बना रहे कोई चमत्कार ऐसा करो, हे भगवन, तुझ पे, अटूट आस्था, कायम रहे| सुना है तुमने, कंस …

समाज की सूरत – अनु महेश्वरी

जब तक बदलेगी नहीं, मानसिकता हमारी, केवल बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ के नारे से, कैसे बनेगी समाज की सूरत ही प्यारी? मुस्कुराके करो स्वागत, बेटी का, जनम से, बिखरेगी …

ज़िन्दगी रूपी माला – अनु महेश्वरी

दुनिया देखोगें, नज़र से जैसी, तस्वीर इसकी, उभरेगी वैसी, हमेशा नहीं होता, सब कुछ काला या सफ़ेद जहाँ, और भी बहुत रंग है, ज़िन्दगी रूपी माला में यहाँ… अनु महेश्वरी …

जरुरत से बनते और बिगड़ते है रिश्ते – अनु महेश्वरी

जरुरत से बनते और बिगड़ते है, रिश्ते जहाँ, ऐसी दुनिया में कैसे मिले, सुकून किसीको यहाँ? न अपना कोई सगा यहाँ, न ही कोई है बेगाना यहाँ, बस मतलब …