बदलते वक्त में -शिशिर मधुकर

क्या करूँ मैं तुम ही बोलो मेरा दिल तुमने तोड़ा है
कहाँ ढूँढू सकूँ जब तेरे लिए ज़माने भर को छोड़ा है

धारा रोक देने से नदिया घुट घुट कर मचलती है
किसी भी हाल में उसने जलधि से मुँह ना मोड़ा है

बदलते वक्त में अपनों से अब तो सुख नहीं मिलते
स्वार्थ मन में भरा है हर तरफ और प्यार थोड़ा है

घरौंदे टूटने की अब तो हर ओर से आवाजें आती हैं
कोई कहता नहीं मैंने नाज़ुक हुए रिश्तों को जोड़ा है

सांस चलती है मधुकर ज़िन्दगी की डोर की खातिर
मगर उमंगें नहीं दिल में इस कदर खून निचोड़ा है

शिशिर मधुकर

16 Comments

  1. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 20/07/2017
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 20/07/2017
  2. kiran kapur gulati kiran kapur gulati 20/07/2017
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 20/07/2017
  3. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar Prasad sharma 20/07/2017
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 20/07/2017
  4. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 20/07/2017
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 21/07/2017
  5. C.M. Sharma babucm 21/07/2017
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 21/07/2017
  6. Madhu tiwari Madhu tiwari 21/07/2017
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 21/07/2017
  7. Ram Gopal Sankhla Ram Gopal Sankhla 21/07/2017
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 21/07/2017
  8. arun kumar jha arun kumar jha 21/07/2017
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 21/07/2017

Leave a Reply