काश यह समय जरा रुक जाए – अनु महेश्वरी

समय की सुइया उल्टी चाल चले,
और मुझे अपने बचपन में ले चले,
कुछ ख़्वाब अधूरे जो रह गए थे,
जी लूँ, लौट बचपन में, फिर से,
काश यह समय जरा रुक जाए,
एकबार फिर से बचपन दे जाए|

झूला झूल लूँ फिर से,
मै वृक्ष की टहनियों से,
थोड़ा छुपा छुपाई खेल लूँ,
दोस्तों के साथ फिर से,
काश यह समय जरा रुक जाए,
एकबार फिर से बचपन दे जाए|

भींग सकूँ फिर से, मै,
अम्बर से बहती धारा में,
तैरा सकूँ, कागज़ की कस्ती,
बहते पानी की धारा में,
काश यह समय जरा रुक जाए,
एकबार फिर से बचपन दे जाए|

कुछ दोस्त रूठ गए थे,
उन्हें फिर से मना लूँ मै,
कुछ किस्से अधूरे रह गये थे,
दोस्तों संग फिर से जी लूँ मै,
काश यह समय जरा रुक जाए,
एकबार फिर से बचपन दे जाए|

 

अनु महेश्वरी
चेन्नई

18 Comments

  1. Bhawana Kumari Bhawana Kumari 20/07/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 23/07/2017
  2. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 20/07/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 23/07/2017
  3. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 20/07/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 23/07/2017
  4. kiran kapur gulati kiran kapur gulati 20/07/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 23/07/2017
  5. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar Prasad sharma 20/07/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 23/07/2017
  6. C.M. Sharma babucm 21/07/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 23/07/2017
  7. Madhu tiwari Madhu tiwari 21/07/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 23/07/2017
  8. arun kumar jha arun kumar jha 21/07/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 23/07/2017
  9. Prinku 02/08/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 03/08/2017

Leave a Reply