गुलशन को अब न उजाड़े हम – अनु महेश्वरी

एक बात जरा हम जानले,
खुद को जरा हम पहचानले,
हम सब है हिन्द के वासी,
हम सब है बस हिंदुस्तानी|

यह देश ही है, बस अपना,
यह सब का ही, हो सपना,
सब मिल जुल के हम अब रहे,
अब किसी की बातों में न बहे|

अखंड भारत बना रहे,
एकता हमारी बनी रहे,
न भाषा के नाम पे हम लड़े,
न प्रान्त के नाम पे हम लड़े|

बहुत दिनो तक गुलामी सही,
मुश्किल से है अाज़ादी मिली,
गुलशन को अब न उजाड़े हम,
प्यार के सब रंग इसमें भरे हम|

 
अनु महेश्वरी
चेन्नई

12 Comments

  1. kiran kapur gulati kiran kapur gulati 20/07/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 23/07/2017
  2. C.M. Sharma babucm 20/07/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 23/07/2017
  3. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 20/07/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 23/07/2017
  4. Bhawana Kumari Bhawana Kumari 20/07/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 23/07/2017
  5. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 20/07/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 23/07/2017
  6. arun kumar jha arun kumar jha 21/07/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 23/07/2017

Leave a Reply