अब का समुझावती को समुझै बदनामी के बीज तो बो चुकी री

अब का समुझावती को समुझै बदनामी के बीज तो बो चुकी री ।
तब तौ इतनौ न बिचार कयो इहिँ जाल परे कहु को चुकी री ।
कहि ठाकुर या रस रीति रँगे करि प्रीति पतिब्रत खो चुकी री ।
सखि नेकी बदी जो बदी हुती भाल पै होनी हुती सु तो हो चुकी री

Leave a Reply