किरदार

जीवन के हर पन्नो पर,

चेहरे बहुत देखे है.

हर एक चेहरो के ,

किरदार बहुत देखे है.

बहुत को निभाते देखे है ,

उससे ज्यादा मुकरते देखे है.

मतलब की है दुनिया ,

ये तो सुना था,लेकिन

आज अपनो को भी मतलब ,

निकालते देखे है.

बचपन में खिलौनों से

खेलने की आदत होती है.

अब कुछ किरदारों को ,

भावनाओ से खेलते देखे है.

दिन, महीने, साल तो बदलते ही है,

कुछ किरदारों को हर पल,

बदलते देखे है.

       अंजली यादव

     Kgmu lko .

7 Comments

  1. Bhawana Kumari Bhawana Kumari 19/07/2017
  2. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 19/07/2017
  3. Madhu tiwari Madhu tiwari 19/07/2017
  4. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 19/07/2017
  5. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar Prasad sharma 20/07/2017
  6. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 20/07/2017
  7. C.M. Sharma babucm 20/07/2017

Leave a Reply