अपने अंदर का अँधियारा दूर करले – अनु महेश्वरी

कही पर भाषा की है लड़ाई,
कही पर अहम् की है लड़ाई,
कही पर अस्तित्त्व की है लड़ाई,
कही पर बेवजह की है लड़ाई|

बस चारो हो रहा है, अब शोर,
नेताओ में भी, बस लगी है, होड़,
वोट बैंक, जब तक बनके रहोगे,
उनके काम, सब यूँही आते रहोगे|

अब देर न करे, सब सम्भल जाए,
अब न कोई हमे इस्तेमाल कर पाए,
यह देश अपना है, इसे हम अब सींचे,
सच और झूठ में फरक करना सीखे|

औरो की गलतियां निकाल ने से पहले,
अपनी गलतियों को भी जरा सुधार ले,
अब औरो को ज्ञान बाँटने से पहले हम,
अपने अंदर का अँधियारा दूर करले हम|

औरो को बदलने से पहले,
खुद को ही हम पहले बदले,
खुद अगर सुधर गए सब,
देश भी बदल जाएगा तब|

 
अनु महेश्वरी
चेन्नई

16 Comments

  1. Bhawana Kumari Bhawana Kumari 17/07/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 18/07/2017
  2. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 17/07/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 18/07/2017
  3. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar prasad sharma 17/07/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 18/07/2017
  4. arun kumar jha arun kumar jha 17/07/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 18/07/2017
  5. kiran kapur gulati kiran kapur gulati 18/07/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 18/07/2017
  6. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 18/07/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 18/07/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 18/07/2017
  7. C.M. Sharma babucm 18/07/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 18/07/2017

Leave a Reply