बचपन के पल पल

माँ की लोरी, दादी की राजा-रानी की कहानी

आज बहुत याद आती है।

पापा का कंधा, दादा के बाँहों का झुला

आज बहुत याद आता है।

बचपन में जब भी नानी के घर जाँऊ,

नाना नानी का मामा-मामी से चुराकर,

माखन मिश्री खिलान,

आज बहुत सताता है।

बचपन मे शरारत कर छुप जाना,

शरारत करने पर माँ का पीटना,

पिटाई के बाद उसमे छुपा प्यार,

आज बहुत रूलाता है।

पढाई न करने पर पापा की डाँट,

डाँट के  बाद हमें प्यार से समझाना

आज समझ में आता है।

बचपन में रूठ जाने पर,

माँ का अपने हाथों से खिलाना,

आज बहुत याद आता है।

पता नहीं क्यों?

हमें अपना बचपन,

आज बहुत याद आता है।

 

20 Comments

  1. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 16/07/2017
    • Bhawana Kumari Bhawana Kumari 16/07/2017
    • Bhawana Kumari Bhawana Kumari 16/07/2017
  2. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar Prasad sharma 16/07/2017
    • Bhawana Kumari Bhawana Kumari 16/07/2017
  3. Madhu tiwari Madhu tiwari 16/07/2017
    • Bhawana Kumari Bhawana Kumari 16/07/2017
  4. angel yadav Anjali yadav 16/07/2017
    • Bhawana Kumari Bhawana Kumari 17/07/2017
  5. arun kumar jha arun kumar jha 16/07/2017
    • Bhawana Kumari Bhawana Kumari 17/07/2017
  6. babucm babucm 16/07/2017
    • Bhawana Kumari Bhawana Kumari 16/07/2017
      • babucm babucm 17/07/2017
  7. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 17/07/2017
  8. Bhawana Kumari Bhawana Kumari 17/07/2017
  9. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 17/07/2017
    • Bhawana Kumari Bhawana Kumari 17/07/2017
    • Bhawana Kumari Bhawana Kumari 18/07/2017

Leave a Reply