अकड़

जब तक जिस्म में जान रही
तब तक अकड़ आँखों की पहचान रही
और जिस्म से जान निकलते ही
यह आँखों से तो जाती रही
मगर खुद जिस्म की ही पहचान हो गयी

6 Comments

  1. SARVESH KUMAR MARUT SARVESH KUMAR MARUT 16/07/2017
  2. Bhawana Kumari Bhawana Kumari 16/07/2017
  3. Madhu tiwari Madhu tiwari 16/07/2017
  4. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar Prasad sharma 16/07/2017
  5. C.M. Sharma babucm 16/07/2017
  6. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 17/07/2017

Leave a Reply