जद्दोजहद या सुकून..

जद्-अो-जहद में उलझ-
मैनें सुकून से वैर ले लिया,
लगता था कि मेरी गलतियाँ-
हो जाएंगी दरकिनार – खूबियों से,
वहम छट गया वक्त ने जब-
रूबरू करा दिया परख से,
अब सुकून चुनूँ या सब जानते हुए
भी जद्-ओ-जहद का रास्ता ?

राकेश पांडेय

5 Comments

  1. SARVESH KUMAR MARUT SARVESH KUMAR MARUT 16/07/2017
  2. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 16/07/2017
  3. Bhawana Kumari Bhawana Kumari 16/07/2017
  4. Madhu tiwari Madhu tiwari 16/07/2017
  5. babucm babucm 16/07/2017

Leave a Reply