तेरी तपीश

  • ऐ सूरज तु,
  • अपने अंदर इतनी तपीश,
  • क्यों रखता है?
  • जब भी निकलता है,
  • गुस्से से लाल पीला हो,
  • आग बगुला दिखता है।
  • क्या तु नही जानता,
  • तेरे इस तपीश से,
  • पेड़ पौधे झलस जाते है।
  • नदी नाले सुख जाते है।
  • इन्सान तो इन्सान,
  • पशु पक्षी भी
  • तेरे तपीश से मर जाते है।
  • तु हर वक्त इतने,
  • गुस्से मे क्यों दिखता है।
  • और जब तेरे तपीश की,
  • हमें जरूरत होती है,
  • तो ना जाने तु,
  • कँहा गायब रहता है।
  • ऐ सूरज तु
  • अपने अंदर इतनी तपीश,
  • कयो रखता है?

17 Comments

  1. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 15/07/2017
  2. Bhawana Kumari Bhawana Kumari 15/07/2017
  3. chandramohan kisku chandramohan kisku 15/07/2017
    • Bhawana Kumari Bhawana Kumari 16/07/2017
  4. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar Prasad sharma 15/07/2017
    • Bhawana Kumari Bhawana Kumari 16/07/2017
  5. arun kumar jha arun kumar jha 15/07/2017
    • Bhawana Kumari Bhawana Kumari 16/07/2017
  6. arun kumar jha arun kumar jha 15/07/2017
  7. SARVESH KUMAR MARUT SARVESH KUMAR MARUT 16/07/2017
    • Bhawana Kumari Bhawana Kumari 16/07/2017
  8. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 16/07/2017
  9. Bhawana Kumari Bhawana Kumari 16/07/2017
  10. C.M. Sharma babucm 16/07/2017
    • Bhawana Kumari Bhawana Kumari 19/07/2017
  11. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 17/07/2017
  12. Bhawana Kumari Bhawana Kumari 19/07/2017

Leave a Reply to ANU MAHESHWARI Cancel reply