तलाश – अनु महेश्वरी

ईट पत्थर के मकानों में,
घर की बस तलाश है,
आदमी के इस भीड़ में,
इंसान की बस तलाश है,
चारो तरफ के शोरगुल में,
शांति की बस तलाश है,
झूठ की इस दुनिया में,
सच्चाई की बस तलाश है,
फ़रेब की इस दुनिया में,
भरोसे की बस तलाश है,
व्यग्रता के इस माहोल में,
सुकून की बस तलाश है,
मशीन सी इस दुनिया में,
ज़िन्दगी की बस तलाश है….

अनु महेश्वरी
चेन्नई

16 Comments

  1. Madhu tiwari Madhu tiwari 14/07/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 16/07/2017
  2. arun kumar jha arun kumar jha 14/07/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 16/07/2017
  3. kiran kapur gulati kiran kapur gulati 14/07/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 16/07/2017
  4. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 15/07/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 16/07/2017
  5. babucm babucm 15/07/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 16/07/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 16/07/2017
  6. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar Prasad sharma 15/07/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 16/07/2017
  7. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 17/07/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 17/07/2017

Leave a Reply