शायरे आजम, शायरे जादू बयाँ

लोग कहते हैं कि मैं हूँ ‘शायरे जादू बयाँ’[1],
’सदर-ए- मआनी’[2], ‘दावर-ओ-अल्फाज़’[3]’ , अमीरे-शायरां[4] ।
और ख़ुद मेरा भी कल तक , ख़ैर से था ये ख़्याल ।
शायरी के फ़न में हूँ ,मिनजुमला -ए-अहले -कमाल[5] ।
लेकिन अब आई हैं जब इक गूना मुझमें पुख़्तगी[6] ।
जेहन[7] के आईने पे काँपा हैं अक्स-ए-आगही[8] ।
आसमाँ जागा है सर में और सीने में जमीं ।
तब मुझे महसूस होता है कि मैं कुछ भी नहीं ।
जिहल की मंज़िल में था मुझको गुरूर-ए-आगही[9] ।
इतनी ‘लामहदूद’[10] दुनिया और मेरी शायरी ।
‘जुल्फे-हस्ती’[11] और इतने बेनिहायत पेचो-ख़म ।
उड़ गया ‘रंगों तअल्ली’[12] खुल गया अपना भरम ।
मेरे शेरों में फ़क़त एक तायराना[13] रंग है ।
कुछ सियासी रंग है कुछ आशिकाना रंग है ।
कुछ ‘मनाज़िर[14]‘ कुछ ‘मबाहिस’ [15] कुछ ‘मसाइल[16]‘ कुछ ख़याल ।
एक उचटता सा जमाल[17] एक ‘सर-ब-जानू[18]‘ सा ख़याल ।
मेरे ‘कस्त्रे-शेर’[19] में ‘गोगाए-फिक्रे-नातमाम’[20] ।
इक दर्द अंगेज दरमाँ[21] इक शिकस्त आमादा ज़ाम[22] ।
गाह सोजे चश्मे -अबरू[23] ,गाह सोजे नाओ नोश[24] ।
गाह खलवत[25] की ख़ामोशी ,गाह जलवत[26] का खरोश ।
चहचहे[27] कुछ मौसमों के , जमजमे[28] कुछ ज़ाम के ।
देरे-दिल[29] में चंद मुखड़े ‘मरमरी असनाम’[30] के ।
चंद जुल्फ़ों की सियाही ,चंद रुखसारों[31] की आब ।
गाह ‘हर्फ़े बेनवाई’[32] गाह शोरे इन्क़लाब ।
गाह मरने के अजायम[33] गाह जीने की उमंग ।
यही ओछी-सी बातें बस यही सतही से रंग ।
बेख़बर था मैं कि दुनिया राज़ अन्दर राज़ है ।
वो भी गहरी ख़ामोशी है जिसका नाम आवाज़ है ।
यह सुहाना बोसतां[34] सर्वो गुलो शमशाद[35] का ।
इक पल भर का खिलंदरापन है आबो-बाद[36] का ।
‘इब्तिदा’ और ‘इंतिहा’[37] का इल्म नज़रों से निहाँ ।
टिमटिमाता सा दिया दो जुल्मतों[38] के दर्मियाँ ।
‘अंजुमन’[39] में ‘तखलिए’[40] हैं ‘तखलियों’ में ‘अंजुमन’ ।
हर ‘शिकन’[41] में इक ‘खिंचावट’[42] , हर ‘खिंचावट ‘ में ‘शिकन’ ।
हर ‘गुमाँ’[43] में इक ‘यकीं’[44] सा हर ‘यकीं ‘ में सौ ‘गुमाँ ‘ ।
नाखुने-तदबीर[45] में भी इक गुत्थी बे-अमां[46] ।
एक-एक ‘गोशे’[47] से पैदा ‘बुसअते-कोनो-मकाँ’[48].
एक -एक ‘खोशे’ में[49] पिन्हाँ ‘सद-बहारे-जाविदाँ’[50]
‘बर्क़’ की लहरों की बुसअत[51] अल-हफीजो-अल-अमां’[52] ।
और मैं सिर्फ़ एक कोंदे की लपक का ‘राजदाँ’[53] .
‘राजदाँ’ ‘क्या मदहख्वां’[54] और ‘मदहख्वां’ भी ‘कमसवाद’[55] ।
‘नाबलद-नादान-नावाकिफ-नादीदः -नामुराद’[56] ।
क्यों न फिर समझूँ ‘सुबक’[57] अपने सुखन के रंग को ।
नुत्क[58] ने अलमास[59] के बदले तराशा संग[60] को ।
” लैला-ए-आफाक”[61] पलटती ही रही पैहम[62] निक़ाब ।
और यहाँ ‘औरत’ ‘मनाज़िर’[63] ‘इश्क’ ‘ सहबा’[64] ‘इन्कलाब’ ।

पा रहा हूँ शायद अब इस ‘तीरह’[65] हल्क़े से निज़ात ।
क्योंकि अब ‘पेश-ए-नज़र’ हैं ‘उक्दा हाये-कायनात’[66] ।
ये भिंची उलझी जमीं ये ‘पेच-दर-पेच’ आसमाँ ।
‘अल-अमानो-अल-अमानो-अल-अमानो-अल-अमां’[67] ।
इक ‘नफ़स’[68] का तार और ये ‘शोरे -उम्रे- जाविदाँ[69] ।
इक कड़ी और उसमें जंजीरों के इतने कारवाँ ।
एक-एक लम्हे में इतने ‘कारवाने -इन्कलाब’
एक-एक जर्रे में इतने ‘माहताब-ओ-आफ़ताब’[70] ।

इक ‘सदा’[71] और उसमें ये लाखों हवाई दायरे[72] ।
जिसके ‘शोबों’[73] को ‘अगर चुनले तो दुनिया गूंज उठे ।
एक ‘बूँद’ और ‘हफ्त -कुलज़म’[74] के हिला देने का जोश ।
एक गूंगा ख्वाब और ताबीर का इतना खरोश[75] ।
इक ‘कली’ और उसमें सदियों की ‘मताअ-ए- रंगों-बू’[76] ।
सिर्फ एक ‘लम्हे’[77] की राग में और ‘करनों’ का लहू[78] ।
हर कदम पर ‘नस्ब’[79] और ‘असरार’ के इतने खयाम[80] ।
और इस मंजिल में मेरी शायरी मेरा कलाम ।
जिसमें ‘राजे-आस्मां ‘ है और ना ‘असरारे-जमीं ।.
एक ‘खस’ एक ‘दाना’ एक ‘जौ’ एक ‘ज़र्रा’[81] भी नहीं ।
‘नौ-ए-इंसानी’[82] को जब मिल जाएगी ‘रफ़्तार-ए-नूर’[83]
‘शायरे-आज़म’ का तब होगा कहीं जाकर ‘ज़हूर’[84]
‘खाक’ से फूटेगी जब ‘उम्रो-अबद’[85] की रौशनी ।
झाड़ देगी मौत को दामन से जिस दिन जिंदगी ।
जब हमारी जूतियों की ‘गर्द’ होगी ‘कहकशां’[86] ।
तब जनेगी ‘नस्ले-आदम’[87] ‘शायरे-जादू-बयाँ’[88] ।
‘बज़्म’ में ‘कामिल’[89] ना ‘फन्ने-शेर ‘ में ‘यकता’[90] हूँ में ।
और अगर कुछ हूँ तो ‘ नकीब-ए-शायरे-फ़रदां’[91] हूँ मैं ।

शब्दार्थ:

  1. ↑ जादुई वर्णन का कवि
  2. ↑ अर्थ-नीति-शिरोमणि
  3. ↑ शब्दों का न्यायाधीश
  4. ↑ कवियों का सरदार
  5. ↑ अत्यंत प्रतिभाशाली कवियों में से एक
  6. ↑ थोड़ी-सी प्रौढ़ता
  7. ↑ मष्तिष्क
  8. ↑ बुद्धि का प्रतिबिम्ब
  9. ↑ बुद्धिमता का घमंड
  10. ↑ असीम
  11. ↑ सॄष्टि रूपी केश
  12. ↑ शेखी का रंग
  13. ↑ छिछला
  14. ↑ दृश्य, मंज़र का बहुवचन
  15. ↑ तर्क
  16. ↑ समस्याएँ
  17. ↑ सौन्दर्य
  18. ↑ तुच्छ चिंतन
  19. ↑ शेरों के महल
  20. ↑ अपूर्ण चिंतन का कोलाहल
  21. ↑ ह्रदय विदारक इलाज़
  22. ↑ टूटने को तैयार प्याला
  23. ↑ कभी नयन और भौंह की चिंता
  24. ↑ खाने पीने की चिंता
  25. ↑ एकांत
  26. ↑ सभा
  27. ↑ गान
  28. ↑ झरने
  29. ↑ ह्रदय मंदिर में
  30. ↑ संगमरमर की मूर्तियाँ
  31. ↑ कपोल
  32. ↑ ग़रीबी की चर्चा
  33. ↑ संकल्प
  34. ↑ फुलवाड़ी
  35. ↑ सुन्दर वृक्ष और पुष्प
  36. ↑ बादल और धुआँ
  37. ↑ आदि और अंत
  38. ↑ अंधकार
  39. ↑ सभा
  40. ↑ एकांत
  41. ↑ सलवट
  42. ↑ तनाव
  43. ↑ भ्रम
  44. ↑ विश्वास
  45. ↑ उपाय
  46. ↑ अनंत पेच
  47. ↑ रोम-रोम में
  48. ↑ विशाल ब्रह्माण्ड
  49. ↑ कण-कण में
  50. ↑ सैंकड़ो शाश्वत ऋतुएँ
  51. ↑ विद्युत् तरंगों की विशालता
  52. ↑ ख़ुदा की पनाह
  53. ↑ रहस्य का जानकार
  54. ↑ गुण गायक
  55. ↑ तुच्छ
  56. ↑ अँधा, अनजान, मूर्ख
  57. ↑ हल्का
  58. ↑ वाक़ शक्ति
  59. ↑ हीरे
  60. ↑ पत्थर
  61. ↑ संसार रूपी रात
  62. ↑ निरंतर
  63. ↑ दृश्य, मंज़र का बहुवचन
  64. ↑ शराब
  65. ↑ अंधकारमय
  66. ↑ ब्रह्माण्ड के गूढ़ रहस्य
  67. ↑ खुदा की पनाह
  68. ↑ श्वास
  69. ↑ अमर जीवन का शोर
  70. ↑ चन्द्र और सूर्य
  71. ↑ आवाज़
  72. ↑ विवर
  73. ↑ टुकड़े
  74. ↑ सात समंदर
  75. ↑ स्वप्नफल
  76. ↑ सुगंध और रंग की पूँजी
  77. ↑ क्षण में
  78. ↑ शताब्दियों का रक्त
  79. ↑ गड़े हुए
  80. ↑ रहस्य के खेमे
  81. ↑ तिनका भर
  82. ↑ मानव जाति
  83. ↑ प्रकाश की गति
  84. ↑ आविर्भाव
  85. ↑ अमर जीवन
  86. ↑ आकाश गंगा
  87. ↑ मानव जाति
  88. ↑ चमत्कारिक वर्णन का कवि
  89. ↑ चिंतन में सिद्ध
  90. ↑ काव्य कला में अद्वितीय
  91. ↑ भविष्य के शायर का सूचक

Leave a Reply