पंछि

पंछि-पंछि जरा बता
तुझे जाना है कहाँ
किया तुम्हें पता भी है
तेरा ठिकाना है कहाँ।

बस चार दाने चुगने
लाल-लाल तारक अनार के दाने मिले
खुला आकाश उड़ जाने को मिले
कही बैठ गीत गाने को एक डाली मिले ।

उस तल तक तेरा निशाना है
किया वही तेरा ठिकाना है
पंछि-पंछि जरा बता
तुझे जाना है कहाँ
तेरा ठिकाना है कहाँ।

छोटी सी आखियो में
तेरे भी सपने है
बहुत बड़ी जहान है
बस अपनो का ठिकाना है।

4 Comments

  1. chandramohan kisku chandramohan kisku 08/07/2017
  2. Madhu tiwari Madhu tiwari 09/07/2017
  3. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 09/07/2017

Leave a Reply