बरसात — डी के निवातिया

बरसात

***

मनभावन सावन वही, वही बरसात है।

दिल में उमंग भी वही, वही जज्बात है।

मेंढक की टर्र-टर्र, सोंधी माटी की खुशबु

नाचते मयूर, अब कहां मिलती वो सौगात है।।

 

डी के निवातिया

***********

????????????

22 Comments

  1. arun kumar jha arun kumar jha 02/07/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 12/07/2017
  2. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 02/07/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 12/07/2017
  3. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 02/07/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 12/07/2017
  4. C.M. Sharma babucm 03/07/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 12/07/2017
  5. md. juber husain md. juber husain 03/07/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 12/07/2017
  6. Kajalsoni 03/07/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 12/07/2017
  7. Madhu tiwari madhu tiwari 03/07/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 12/07/2017
  8. Bindeshwar prasad sharma bindeshwar prasad sharma 03/07/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 12/07/2017
  9. Ram Gopal Sankhla Ram Gopal Sankhla 03/07/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 12/07/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 12/07/2017
  10. Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 01/08/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 01/08/2017

Leave a Reply