|| उदासी ||

बेटी क्या हुई विदा घर से, वीरानगी ज्यों हुई व्याप्त |
बेटा परदेस गया पढ़ने, आपदा ने घर को किया आप्त || 1 ||
किसी के घर में छाई उदासी, क्योकि अपनों ने मुंह मोड़ लिया |
कोई दु:खी है कि जग में, मित्रों ने सम्बन्ध तोड़ दिया || 2 ||
एक का घर, एकांतवास से हुआ ज्यों खुशियों से विहीन |
तो दूजे के घर, कोलाहल की गर्जना से कांपती जमीन || 3 ||
यह तो आम उदासी है, जिससे मानव नित होता दो-चार |
वास्तविक उदासी तो वह है, जो कमर तोड़ करती लाचार || 4 ||
जीवन किस पल क्या रंग दिखाए, समझ नहीं कुछ आता है |
जिसे खिलाया गोद में अपनी, शमशान उसे पहुँचावाता है || 5 ||
उस अभागे का करूण क्रन्दन, घर की दीवार हिलाता है |
सुनने वालों का ह्रदय भी दहल जाता, जीवन नीरस बन जाता है || 6 ||
कोई कर्ज के बोझ से दबा हुआ, तो किसी का गिरवी पड़ा मकान |
विपत्तियों ने डाला ज्यों डेरा, स्वजनों ने भी किया परेशान || 7 ||
विशेष प्रकार की होती इक उदासी, कि हम अफसर थे अब हुए रिटायर |
मातहत न सलाम करेंगे अब, हम तो हुए समाज से बाहर || 8 ||
जिस आफिस में आदेश हमारा, निर्बाध रूप से रहा चलता |
उस कार्यालय में कुर्सी-कुर्सी भटकें, बात नहीं कोई सुनता || 9 ||
जग में उदासी के प्रकार की, व्याख्या नहीं हो सकती है |
किस बात से है उदास कौन, इसकी व्याख्या हो सकती है || 10 ||
जीवन के बढ़ते अनुभव से, विश्लेष्ण हम कर पाते हैं |
उदासी न होती उतनी बड़ी, कल्पना में हम जितना पाते हैं || 11 ||
दु:ख अवसाद उदासी होते, कल्पनाओं के जन्मदाता |
जितना मानव कल्पना करता, उतना तनाव है बढ़ जाता || 12 ||
यह सत्य है कि घटनाएं, मन को विदीर्ण कर देती हैं |
चहुँ ओर से बढ़ती उलझनें, आत्मा को विचलित कर देती हैं || 13 ||
किन्तु मानव यह सोचे कि, इन सब का कारण है क्या |
अनेकों घटनाओं की हो जाती, आप ही सहज व्याख्या || 14 ||
जो चला गया सदा के लिए, वह लौट के फिर ना आएगा |
उस हेतु होकर उदास मानव, समय व्यर्थ गवाएंगा || 15 ||
यहाँ पर यदि हम यह मानें, कि जग में है एक परम शक्ति |
वह सदा हमारे साथ है रहती, सहन शक्ति देती है भक्ति || 16 ||
उसे ईश्वर कहो या कहो खुदा, या ‘गाड’ का उसको दो नाम |
उसकी इच्छा को स्वीकार करो, दु:ख से मिल जाए विश्राम || 17 ||
होनी के समक्ष नतमस्तक हो, उदासी हो जाएगी दूर |
जो उसे मान्य स्वीकार करो , शांति न होगी तुमसे दूर || 18 ||
यदि हम करें विश्लेषण, तो उदासी ऐसी माया है |
जिसका साया सब पर पड़ता, सब पर उसकी छाया है || 19 ||
समय का चक्र सबके जीवन में, उदासी अवश्य ही लाता है |
यदि हम उस शक्ति को मानें, इक दिन सब ठीक हो जाता है || 20 ||
जो लौट के मिलना सम्भव हो, वह लौट के फिर मिल जाएगा |
जो सदा के लिए चला गया, उसे सहने का बल मिल जाएगा || 21 ||
इस जगत में यदि हम खोजें, ऐसे उदाहरण मिल जाते हैं |
जो सब कुछ खोकर भी अपना, उसकी भक्ति को अपनाते हैं || 22 ||
चक्र समय का करवट लेता, बिगड़े काम सभी बन जाते हैं |
उदासी की मिटती छाया, सब मिल कर मोद मनाते हैं || 23 ||
यह पथ नहीं सन्यासियों का, आम व्यक्ति भी अपना सकता |
उसकी भक्ति की शक्ति से, उदासी है दूर भगा सकता || 24 ||
उदासी के क्षण जब भी आएं, मन को न तनिक करो निराश |
यह आती जाती बदली है, छंट जाएगी करो विश्वास || 25 ||
स्रष्टि का जब से हुआ उद्भव, मानव ने उदासी झेली है |
इक तुम नहीं भोगी इसके, यह सबकी अभिन्न सहेली है || 26 ||
उदासी के बादल छंट के रहेंगे, मन में तुम विश्वास करो |
परमशक्ति पर रखो भरोसा, उदासी से खुद को ना आप्त करो || 27 ||

अखिलेश प्रकाश श्रीवास्तव

8 Comments

  1. Madhu tiwari madhu tiwari 02/07/2017
  2. SARVESH KUMAR MARUT SARVESH KUMAR MARUT 02/07/2017
  3. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 02/07/2017
  4. अखिलेश प्रकाश श्रीवास्तव अखिलेश प्रकाश श्रीवास्तव 03/07/2017
  5. C.M. Sharma babucm 03/07/2017
  6. Kajalsoni 03/07/2017
  7. Bindeshwar prasad sharma bindeshwar prasad sharma 03/07/2017
  8. Ram Gopal Sankhla Ram Gopal Sankhla 03/07/2017

Leave a Reply