कवि पति – समझदार पत्नि: संवाद…Raquim Ali

‘कवि पति – समझदार पत्नि’ संवाद

( नींद में, कवि) पति :
‘ख़ूबसूरत सा मेरा ख़्याल है, यही चल रहा है मेरे मन में
खूबसूरत तेरा भी ख्याल होगा, यही होगी बात तेरे मन में;

बेहद खूबसूरत सी तेरी एक सूरत बसी है, मेरे दिल में
खूबसूरत सी मेरी भी कोई तस्वीर बसी होगी तेरे दिल में।’

*******************************************

(जगी हुई, समझदार) पत्नि:
‘उन खूबसूरत ख़्याल, सूरत, तस्वीर की बातें छोड़ो
पूरा ध्यान लगाओ, आटा, चावल, दाल, तरोई में;

ख़्याली, बातों से पेट नहीं भरता है, पप्पू के ‘पप्पा’-
टमाटर*, पहले लाओ, देख लो, और क्या-क्या नहीं है
रसोई में?’

(* आजकल टमाटर, यहाँ पर 100 Rs/Kg के रेट से मिल रहा है। )

…र.अ. bsnl

10 Comments

  1. arun kumar jha arun kumar jha 01/07/2017
  2. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 01/07/2017
  3. raquimali raquimali 01/07/2017
  4. SARVESH KUMAR MARUT SARVESH KUMAR MARUT 02/07/2017
  5. babucm babucm 02/07/2017
  6. Madhu tiwari madhu tiwari 02/07/2017
  7. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 02/07/2017
  8. raquimali raquimali 03/07/2017
  9. Kajalsoni 03/07/2017
  10. raquimali raquimali 03/07/2017

Leave a Reply