|| मन की गहराई ||


जग में गहराई की सीमा, मानव कभी माप सकेगा क्या |
किसमें कितनी गहराई है, व्याख्या कोई कर सकेगा क्या || 1 ||
धरा से सूरज-चाँद की दूरी की, माप भले हो सकती है |
सामने खड़े मानव की गहराई, पता कदापि न चलती है || 2 ||
गोताखोर समन्दर की, अतल गहराई तक भले ही जाते हैं |
पर मानव मन की गहराई में गोते , लगा न वे भी पाते हैं || 3 ||
मन की शक्ति से जग में, असम्भव भी सम्भव हो जाता है |
पर यह सम्भव हुआ कैसे, समझ न मानव पाता है || 4 ||
अनेकों बार मानव, ऐसे कार्य भी कर जाता है |
जिसे स्मरण कर प्राणी, आश्चर्य में पड़ जाता है || 5 ||
मन की शक्ति के बल पर, जग को अचरज करते देखा है |
पर अंतर में क्या घुमड़ रहा, करते विचार न देखा है || 6 ||
मन की गहराई का मानव को, पता तभी चल सकता है |
अपने मन के भीतर खुद झांके, रहस्य तभी खुल सकता है || 7 ||
अकर्मण्य कहते हम तो जग में, जीवन यापन ही कर सकते |
मन की शक्ति निखारें योगी-सन्यासी, हम तो उदर-पूर्ति ही कर सकते || 8 ||
मन की गहराई से मानव, आकलित खुद को कर सकता है |
मन में सोई शक्ति की, पहचान स्वयं कर सकता है || 9 ||
विद्धजनो का कहना है, प्रभु ने सबको दी है शक्ति समान |
अभ्यास-साधना के बल पर, मानव स्वयं हो सकता महान || 10 ||
जग में प्राणी होते कितने, जो झांके खुद के अंतर में |
गहराई को मन की मापें, करें विकास अपने अंतर में || 11 ||
पल भर भी गहराई हो जाग्रत, असम्भव भी हो जाता है सम्भव |
क्यों न उसे करें विकसित, जिससे होता हो मन का उद्भव || 12 ||
थाह जिन्होंने पाई अंतर की, वे मानव को करते उत्साहित |
हर मानव में अंश ईश्वर का, तुम होना कदापि न हतोत्साहित || 13 ||
आज जो तुम हो, कल तक हम भी थे उसी स्तर पर |
जो हम पा सके आज, कल तुम भी पा सकते हो मन के भूतल पर || 14 ||
इसकी गहराई अनन्त, यह सागर से भी गहरा है |
सागर की थाह भले मिल जाए, पर मन उससे भी गहरा है || 15 ||
गहराई की माप नहीं असंभव, मन में हो यदि विश्वास अटल |
मानव मन की शक्ति की सीमा, जग में होती सबसे प्रबल || 16 ||
बाह्य जगत को छोड़, जो झाँक सके अपने मन में |
वह थाह स्वयं की पा सकता, जो झांके अपने अन्तर में || 17 ||

अखिलेश प्रकाश श्रीवास्तव

6 Comments

  1. C.M. Sharma babucm 30/06/2017
  2. arun kumar jha arun kumar jha 01/07/2017
  3. SARVESH KUMAR MARUT SARVESH KUMAR MARUT 01/07/2017
  4. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 01/07/2017
  5. Madhu tiwari madhu tiwari 02/07/2017
  6. Kajalsoni 03/07/2017

Leave a Reply