सनम-अरूण कुमार झा बिट्टू

कितने हंसी वादिया हैं
कितने हंसी हैं नजारे
तुम सामने मेरे बैठो
भर लू मै प्यासी निगाहें

इन नैनो की गहराईया क्या
सागर भी इसमे समाए
होठो की इन सुर्खियो से
फूलो ने रंगत चुराए

ये चुपके मुझे ताक जाना
शरमा के नजरे झुकाना
अदाए ये जालिम बडी़ हैं
चेहरे पे जुल्फो का गिर आना

खुशबू बदन की तुम्हारे
मेहकती मांग कर के गुलाबें
छू कर मैं यकी तो कर लू
तुम हो पास या भ्रम हैं हमारे

इतनी हसी एक तुम हों
उस पर ये मुस्कान तुम्हारी
तरसता हैं सारा जहॉं पर
किस्मत हैं तुम हो हमारी
हॉ किस्मत हैं तुम हो हमारी

16 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 30/06/2017
    • arun kumar jha arun kumar jha 01/07/2017
  2. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 30/06/2017
    • arun kumar jha arun kumar jha 01/07/2017
  3. Madhu tiwari madhu tiwari 30/06/2017
    • arun kumar jha arun kumar jha 01/07/2017
  4. C.M. Sharma babucm 30/06/2017
    • arun kumar jha arun kumar jha 01/07/2017
  5. SARVESH KUMAR MARUT SARVESH KUMAR MARUT 01/07/2017
    • arun kumar jha arun kumar jha 01/07/2017
  6. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 01/07/2017
  7. arun kumar jha arun kumar jha 01/07/2017
  8. raquimali raquimali 02/07/2017
  9. arun kumar jha arun kumar jha 02/07/2017
  10. Kajalsoni 03/07/2017
  11. arun kumar jha arun kumar jha 05/07/2017

Leave a Reply