ऑख का जादू – बिन्देश्वर प्रसाद शर्मा बिन्दु

 

  ऑख का जादू था

जंतर कोई टोना था

मचलते हुए गुनगुनानें लगे

देख तुम्हें पास आने लगे।

कोई ऐसा इरादा था

कोई वैसा इसारा था

बस हम फिसलते गए

सुरूर में क्या तराना था

सूरत कितनी भोली थी

क्या मस्त नजारा था

बहकते हुए मुस्कराने लगे

तुम्हें देख पास आनें लगे।

मुझे करंट जैसा ही कुछ

कुछ कुछ होने लगा था

इक एग्रीमेंट जैसा ही

कुछ कुछ खोने लगा था

दिल घायल था मेरा

कोई मजनू पागल था

ख्वाब में मंजिल सजाने लगे

तुम्हें देख हम आने लगे।

चॉदचकोर अब दिल ये

मेरा होने लगा था

पपिहामोर बनकर

मेरा दिल टोने लगा था

कोई ऐसा इरादा था

कोई वैसा वादा था

बहकते दिल चुराने लगे

तुम्हें देख पास आनें लगे।

बिन्देश्वर प्रसाद शर्मा  बिन्दु

18 Comments

  1. C.M. Sharma babucm 30/06/2017
    • Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar Prasad sharma 30/06/2017
  2. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 30/06/2017
    • Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar Prasad sharma 30/06/2017
  3. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 30/06/2017
    • Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar Prasad sharma 30/06/2017
  4. arun kumar jha arun kumar jha 30/06/2017
    • Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar Prasad sharma 30/06/2017
  5. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 30/06/2017
    • Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar Prasad sharma 30/06/2017
  6. Madhu tiwari madhu tiwari 30/06/2017
    • Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar Prasad sharma 30/06/2017
  7. Kajalsoni 01/07/2017
    • Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar Prasad sharma 01/07/2017
  8. raquimali raquimali 01/07/2017
    • Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar Prasad sharma 01/07/2017
  9. Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 02/07/2017
    • Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar Prasad sharma 02/07/2017

Leave a Reply