क़दम इंसान का राहे-दहर में

क़दम इंसान का राह-ए-दहर[1] में थर्रा ही जाता है
चले कितना ही कोई बच के ठोकर खा ही जाता है

नज़र हो ख़्वाह कितनी ही हक़ाइक़-आश्ना[2] फिर भी
हुजूम-ए-कशमकश[3] में आदमी घबरा ही जाता है

ख़िलाफ़-ए-मसलेहत[4] मैं भी समझता हूँ मगर नासेह
वो आते हैं तो चेहरे पर तहय्युर[5] आ ही जाता है

हवाएं ज़ोर कितना ही लगाएँ आँधियाँ बनकर
मगर जो घिर के आता है वो बादल छा ही जाता है

शिकायत क्यों इसे कहते हो ये फ़ितरत है इंसान की
मुसीबत में ख़याल-ए-ऐश-ए-रफ़्ता[6] आ ही जाता है

समझती हैं म’अल-ए-गुल[7] मगर क्या ज़ोर-ए-फ़ितरत है
सहर होते ही कलियों को तबस्सुम[8] आ ही जाता है

शब्दार्थ:

  1. ↑ जीवन की राह
  2. ↑ सच्चाई को चाहने वाला
  3. ↑ मु्श्किलों की भीड़
  4. ↑ समझदारी के उलट
  5. ↑ बदलाव
  6. ↑ खुशनुमा गुज़रे वक्त का ख्याल
  7. ↑ नतीज़ा
  8. ↑ मुस्कराहट, खुशी

Leave a Reply