एक पेड़ जो लगाओगे…Raquim Ali

एक पेड़ जो लगाओगे, बहुत पुण्य तुम पाओगे
तेज गर्मी में धूप से बचने के लिए
जब कोई इंसान या जानवर आएगा
उसकी छांव में सुस्ताएगा।
बहुत सवाब तुम पाओगे।

जब कोई चिड़िया चूं-चूं करती आएगी
कभी, छोटा-सा उस पर घोंसला बनाएगी
टहनी पर फुदक जाएगी, बच्चों को उस पर उड़ाएगी
चहक-चहक कर आएगी, जाएगी।
बहुत सवाब तुम पाओगे।

हरियाली देख-देख, जब दादा-दादी खुश हो लेंगे
जब चरवाहे उसके नीचे-ऊपर मौज-मस्ती से खेलेंगे
फ़िज़ा में जब, उस दरख़्त से शुद्ध हवा फैल जाएगी
किसी के झोपड़ी में, सहारा बनकर
जब उसकी कोई लकड़ी काम आ जाएगी।
बहुत सवाब/पुण्य तुम पाओगे।

उसका पत्ता, किसी चौपाए का जब चारा बन जाएगा
उसके फल को कोई बच्चा, जवान, बूढ़ा जब खाएगा
कांपता हुआ कोई उसकी सूखी पत्तियों को जब जलाएगा, ठण्डक को भगाएगा
उसकी सूखी टहनियों, से एक ग़रीब का चूल्हा जब जल जाएगा।
बहुत सवाब तुम पाओगे।

( आइए, इस बरसात के सीज़न में, कम से कम एक पेड़ लगाते हैं। )
            …र. अ. bsnl

11 Comments

  1. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 29/06/2017
  2. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 29/06/2017
  3. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 29/06/2017
  4. angel yadav anjali yadav 29/06/2017
  5. Madhu tiwari madhu tiwari 29/06/2017
  6. arun kumar jha arun kumar jha 29/06/2017
  7. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar prasad sharma 29/06/2017
  8. babucm babucm 30/06/2017
  9. raquimali raquimali 30/06/2017
  10. Kajalsoni 01/07/2017
  11. raquimali raquimali 01/07/2017

Leave a Reply