तुम

तुम महज़ मेरी कविता नहीं हो
यह कुछ जज्बात है मेरे
तुम महज़ कागज़ पर सहायी की छाप नही हो
यह कुछ खयालात है मेरे
तुम्हे सोचकर लिखा गया कोई व्यंग्य नही है
यह तो दिल की बात है मेरे
तुम महज़ मेरी कविता नहीं हो
यह कुछ जज्बात है मेरे

18 Comments

  1. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar Prasad sharma 28/06/2017
    • Shabnam Shabnam 28/06/2017
  2. arun kumar jha arun kumar jha 28/06/2017
    • Shabnam Shabnam 29/06/2017
  3. Vipul jain 28/06/2017
    • Shabnam Shabnam 29/06/2017
  4. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 28/06/2017
    • Shabnam Shabnam 29/06/2017
  5. Kajalsoni 28/06/2017
    • Shabnam Shabnam 29/06/2017
  6. Shashank vyas 28/06/2017
    • Shabnam Shabnam 29/06/2017
  7. babucm babucm 29/06/2017
    • Shabnam Shabnam 29/06/2017
  8. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 29/06/2017
    • Shabnam Shabnam 29/06/2017
  9. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 29/06/2017
    • Shabnam Shabnam 29/06/2017

Leave a Reply