माता-पिता…… काजल सोनी

जन्म देती है माँ
तो भविष्य देता है पिता ।

दुध पिलाती है माँ
तो खुन पसीने की खिलाता है पिता ।

आँचल में समेट कर रखती है माँ
तो दुनिया दिखाता है पिता ।

हर नजर से बचाती है माँ
तो सबकी नजर में चमकाता है पिता ।

हर गम को समझती है माँ
तो गमों को दुर भगाता है पिता ।

नहला धुला कर सजाती है माँ
तो दुनिया में धूमिल होने से बचाता है पिता ।

हाथ पकड़ कर चलना सिखाती है माँ
तो जीवन में गिरने से बचाता है पिता ।

हर गम में सिसकती है माँ
तो चुप रह कर हौसला बढाता है पिता ।

माता और पिता हमारे दोनों
हमारे हाथों की तरह है ,
एक के न होने से हम अपने
आप को असहाय महसूस करते हैं । ।

” काजल सोनी ”

9 Comments

  1. arun kumar jha arun kumar jha 28/06/2017
  2. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 28/06/2017
  3. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar Prasad sharma 28/06/2017
  4. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 29/06/2017
  5. babucm babucm 29/06/2017
  6. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 29/06/2017
  7. raquimali raquimali 29/06/2017
  8. Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 02/07/2017
  9. subhash 05/07/2017

Leave a Reply