फूलों की महफिल – बिन्देश्वर प्रसाद शर्मा बिन्दु

 

खुशबु चमन के डालियों पर आके लग गये

जो फूल थे महकते वो गलियों में सज गये।

कुछ फूल थे कुर्वानियों के सर पर चढने को

और जो शेष थे आके वो मैय्यत में जड़ गये।

ये कहकसी है फूलों की अजीब दास्तॉ

ये जन्नत की गुलबदन ये है गुलसितॉ।

दिल लूटटे रहे और सपनों में वह गये

जो कह नहीं सके वो होठों पर रह गये।

कॉटों में खूबसूरत ये कैसी नूरजहॉ है

गुलाबी बदन महकती बता तूं कहाँ है

सम्मान में ये किसी के गले से यूॅ लग गये

कुछ सुरबाला के गहनों में यूॅ ही उलझ गये।

 

बिन्देश्वर प्रसाद शर्मा  बिन्दु

14 Comments

  1. Vivek Singh Vivek Singh 28/06/2017
    • Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar prasad sharma 29/06/2017
  2. babucm babucm 28/06/2017
    • Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar prasad sharma 29/06/2017
  3. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 28/06/2017
    • Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar prasad sharma 29/06/2017
  4. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 28/06/2017
    • Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar prasad sharma 29/06/2017
  5. arun kumar jha arun kumar jha 28/06/2017
    • Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar prasad sharma 29/06/2017
  6. Kajalsoni 28/06/2017
    • Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar prasad sharma 29/06/2017
  7. raquimali raquimali 29/06/2017
    • Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar prasad sharma 29/06/2017

Leave a Reply