मौसम

आज विश्वास बोल रहा हैे, अच्छा लग रहा होगा
क्योंकि माज़ी की यादों का घमाघम हो रहा है।

पर सोचकर कि न जी पाएंगे उस रुत को कभी अब
यहां दिल का मौसम नम हो रहा है।।

16 Comments

  1. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 26/06/2017
  2. arun kumar jha arun kumar jha 26/06/2017
  3. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar Prasad sharma 26/06/2017
  4. Vivek Singh Vivek Singh 26/06/2017
  5. Madhu tiwari madhu tiwari 26/06/2017
  6. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 26/06/2017
    • Vivek Singh Vivek Singh 29/06/2017
  7. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 26/06/2017
  8. C.M. Sharma babucm 26/06/2017
    • Vivek Singh Vivek Singh 29/06/2017
  9. Kajalsoni 28/06/2017
    • Vivek Singh Vivek Singh 29/06/2017

Leave a Reply