पुरानी सी तस्वीर – अनु महेश्वरी

आज मै पुराने एल्बम के,
पन्नो को पलट रही थी जब,
मेरी नज़र टिक ही गयी बस,
एक पुरानी सी तस्वीर पे|

दोस्तों संग बिताए पल, फिर से,
आँखों के सामने तैरने, लगे थे,
धुंधली सी यादो से ही, फिर से,
चमक लौट आयी थी, आँखों में|

पहले तो रोज शाम को
हमारा, मिलना होता था,
वह खेलना, कूदना, हसना,
और रूठना, मनाना, होता था|

सब तो पीछे ही रह गया,
पता ही नहीं चला कब हम,
ज़िन्दगी के हातो, चलते चले गए,
और काफी रिश्ते पिछे ही छूट गए|

कितना वक़्त बीत गया था,
अब हालात, बदल चुके थे,
सब अपनी ज़िन्दगी में मशगूल थे,
कहाँ मिल पाते है, बचपन के दोस्तों से|

पर उनकी यादे दिल में,
आज भी जस की तस है,
क्योंकि वह रिश्ते सच्चे थे,
निस्वार्थ और निर्मल थे|

दोस्त तो उसके बाद भी बने,
पर बचपन की दोस्ती सी,
वह बात, फिर नहीं बनी,
उसमे अलग ही कुछ बात थी|

तभी तो उन यादो की,
आज भी अहमियत है,
उनकी स्मृति मात्र से ही,
आँखें छलक पड़ती है|

 
अनु महेश्वरी
चेन्नई

16 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 26/06/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 26/06/2017
  2. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 26/06/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 28/06/2017
  3. Bindeshwar prasad sharma bindeshwar prasad sharma 26/06/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 28/06/2017
  4. Vivek Singh Vivek Singh 26/06/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 28/06/2017
  5. arun kumar jha arun kumar jha 26/06/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 28/06/2017
  6. C.M. Sharma babucm 26/06/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 28/06/2017
  7. kiran kapur gulati kiran kapur gulati 27/06/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 28/06/2017
  8. Kajalsoni 28/06/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 28/06/2017

Leave a Reply