कैलेंडर की तारीख

ज़िन्दगी ये ज़िन्दगी
कैलेंडर की तारीख सी
दिन का हिसाब
अतीत की किताब
साल दर साल
बीतता मौसम
कभी सावन की बारिश
कभी पतझड़ का आगमन
छूटता बचपन ,बैचैन मन
बदलते लोग , बदलता जीवन
ज़िन्दगी ये ज़िन्दगी
कैलेंडर की तारीख सी
कभी तारीख से बचपन दिखाती
कभी भविष्य की उम्मीदे बढाती
कभी सपना दिखाती
कभी संघर्ष की कहानी सुनाती
ज़िन्दगी ये ज़िन्दगी
कैलेंडर की तारीख सी
कभी मिलन की अनुभूति करवाती
कभी विछोह का डर दे जाती
कभी योवन की उन्माद्कता से मिलवाती
कभी बुढ़ापे का दंश दे जाती
ज़िन्दगी ये ज़िन्दगी
कैलेंडर की तारीख सी
ये ज़िन्दगी—अभिषेक राजहंस

7 Comments

  1. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 26/06/2017
    • Abhishek Rajhans 26/06/2017
  2. Bindeshwar prasad sharma bindeshwar prasad sharma 26/06/2017
  3. arun kumar jha arun kumar jha 26/06/2017
  4. babucm babucm 26/06/2017
  5. Kajalsoni 28/06/2017
    • Abhishek Rajhans 29/06/2017

Leave a Reply