अब इस दुनिया में रिश्ता निभाता है कौन….

इस मतलबी दुनिया में अब याद आता है कौन
फुर्सत में भी अब एक-दूजे के घर जाता है कौन

अब दूसरों की परवाह नही सब अपने में व्यस्त
इस युग में अब अपनों से रिश्ता निभाता है कौन

अब थोड़े से मनमुटाव में टूट जाते है सारे रिश्ते
अभिमान में टूटे रिश्ते को अब जुड़ाता है कौन

पहले रूठने मनाने से बढ़ता था प्यार रिश्तों में
किसी रूठे हुए अपनों को अब मनाता है कौन

बदल गयी ये दुनिया बदल गए अब लोग “पियुष’
देखकर भी एक दूजे को अब नज़र मिलाता है कौन

पियुष राज
दुमका ,झारखण्ड
P-66/19 जून 2017

8 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 26/06/2017
  2. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 26/06/2017
  3. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 26/06/2017
  4. Bindeshwar prasad sharma bindeshwar prasad sharma 26/06/2017
  5. arun kumar jha arun kumar jha 26/06/2017
  6. babucm babucm 26/06/2017
  7. kiran kapur gulati kiran kapur gulati 27/06/2017
  8. Kajalsoni 28/06/2017

Leave a Reply