तेरे दरबार में – बिन्देश्वर प्रसाद शर्मा बिन्दु

 

चैन मिलता ही नहीं अब कहॉ जाये हम

बडी सुकून तेरे दरवार में,  तो आए हम

बहुत भटके हैं और ठोकरे भी खाये हैं

गलत रास्ते से अपने को भी बचाये है।

सुख मिलता ही नहीं अब कहॉ जाए हम

तेरे दरबार में …………………………..।

अपना लो हमें चरणो का तेरा दास बनूॅ

न जाउॅ कहीं और बस तेरे ही पास रहुॅ

आस दिखती  नहीं और कहॉ जायें हम

तेरे दरबार में ………………………….।

सेवा टहल लगाउॅगा करूगॉ और मैं भजन

रम जाउॅगा तुझमें ही और रहूॅगा मैं मगन

राह दिखती  नहीं कोई और कहॉ जायें हम

तेरे दरबार में ………………………….।

मोह माया छू न सके इतना ही ज्ञान देना

दूर रहॅू लालच से बस  इतनी पहचान देना

भरोसा भगवान का है और कहॉ जायें हम

तेरे दरबार में …………………………….।

 

बिन्देश्वर प्रसाद शर्मा  बिन्दु

14 Comments

  1. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 24/06/2017
    • Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar Prasad sharma 24/06/2017
  2. babucm babucm 24/06/2017
  3. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar Prasad sharma 24/06/2017
  4. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 24/06/2017
    • Bindeshwar prasad sharma bindeshwar prasad sharma 25/06/2017
  5. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 24/06/2017
    • Bindeshwar prasad sharma bindeshwar prasad sharma 25/06/2017
  6. arun kumar jha arun kumar jha 24/06/2017
    • Bindeshwar prasad sharma bindeshwar prasad sharma 25/06/2017
  7. Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 25/06/2017
    • Bindeshwar prasad sharma bindeshwar prasad sharma 25/06/2017
  8. Kajalsoni 25/06/2017
    • Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar Prasad sharma 26/06/2017

Leave a Reply