तलाश….सी.एम्. शर्मा (बब्बू)….

बहुत काटा-पीटी सी ज़िन्दगी है मेरी…
रोज़ ही नए सवाल देती है….
कुछ के तो खुद ही जवाब देती है…
पर वो भी समझ कहाँ पाता हूँ……
उलझ सा जाता हूँ…जाने क्या चाहता हूँ…
बहुत काटा पीटी है ज़िन्दगी मेरी….

पड़ोस में जवां मौत हो गयी है…
घर उनका उजड़ सा गया है…
पर…बच्चे मेरे की शादी है…
ढोल बज रहा है…मैं नाच गा रहा हूँ….
अपने को बना रहा हूँ… यां शायद
दर्द भरी चीखों से डर रहा हूँ…
कुछ समझ नहीं पाता हूँ

ताज़ा सुन्दर से फूल लिए..मंदिर जा रहा हूँ…….
सामने एक मासूम..फूल सा कोमल बच्चा..
चुप्पचाप सा…आँखों में अनगिनत सवाल लिए…
पर मैं बिना कुछ बोले….निकल जाता हूँ…
भगवान् को “दे” कर भी मैं खुश नहीं रह पाता हूँ…
कुछ समझ नहीं पाता हूँ

अभी अभी सब्जी मंडी में….
एक “बूढी औरत” से..प्याज का भाव पूछता हूँ…
शायद कहीं कम भाव में मिलें..आगे बढ़ जाता हूँ…
वापिस आ के पाता हूँ कि वो “बूढी “औरत”…
अपनी ज़िन्दगी का हिसाब कर निकल चुकी है…
और मैं अपना हिसाब करने बैठ जाता हूँ…
कुछ समझ नहीं पाता हूँ

कभी लगता है दो कदम पे मंज़िल मिल ही जाएगी…
मीलों भागता हूँ फिर नाउम्मीद वापिस लौट आता हूँ…
छाँव में भी तपती रेत का अहसास होता है…
मन में अजीब सी प्यास का ऊफान उठता है…
शायद स्वाति बूँद की तलाश है मुझको..
पर….कुछ समझ नहीं पाता हूँ….
बहुत ही काटा पीटी सी ज़िन्दगी है मेरी…
\
/सी.एम्. शर्मा (बब्बू)

18 Comments

  1. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 23/06/2017
    • C.M. Sharma babucm 24/06/2017
  2. Bindeshwar prasad sharma bindeshwar prasad sharma 23/06/2017
    • C.M. Sharma babucm 24/06/2017
  3. arun kumar jha arun kumar jha 23/06/2017
    • C.M. Sharma babucm 24/06/2017
  4. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 23/06/2017
    • C.M. Sharma babucm 24/06/2017
  5. Madhu tiwari Madhu tiwari 23/06/2017
    • C.M. Sharma babucm 24/06/2017
  6. Saviakna Saviakna 23/06/2017
    • C.M. Sharma babucm 24/06/2017
  7. Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 23/06/2017
    • C.M. Sharma babucm 24/06/2017
  8. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 24/06/2017
    • C.M. Sharma babucm 24/06/2017
  9. Kajalsoni 25/06/2017
    • C.M. Sharma babucm 28/06/2017

Leave a Reply