शानो सफर – अरूण कुमार झा बिट्टू

वो हर एक सीना फाड़ दूं
अरे काल को भी काल दूं
मजाल किसकी हैं इधर
डाल बच जाए तुझ पे बुड़ी नजर
ऐ मेरे प्यारे वतन ,ऐ मेरे प्यारे वतन

वो तो आता हैं मगर
बच के गया हैं कब उधर
सुना किसी से कभी जिकर
हम हैं जब प्रेहरी इधर
ऐ मेरे………..

हर एक फौजी आजाद सम
भगत सिंह के ही ख्याल सम
जानो लहू की किसे फिकर
बस सलामती हैं तेरी अहम
ऐ मेरे……….

वो लहू किस काम का
मानो जवानी नाम का
जीते जी ही मर जाऐगे
जो दुश्मन को न मार पाए तेरे
मारूंगा दुश्मन हो जिधर
ऐ मेरे………

जीता हूं तो भी तेरे लिए
मरूंगा तो भी तेरे लिए
तिरंगे मे लिपटा जाऊंगा
राष्ट्र गान,सलामी पाऊंगा
एैसा हैं अपना शानो सफर
ऐ मेरे………

16 Comments

  1. Madhu tiwari Madhu tiwari 22/06/2017
    • arun kumar jha arun kumar jha 23/06/2017
  2. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 22/06/2017
    • arun kumar jha arun kumar jha 23/06/2017
  3. C.M. Sharma babucm 23/06/2017
    • arun kumar jha arun kumar jha 23/06/2017
  4. Bindeshwar prasad sharma bindeshwar prasad sharma 23/06/2017
    • arun kumar jha arun kumar jha 23/06/2017
  5. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 23/06/2017
    • arun kumar jha arun kumar jha 23/06/2017
  6. Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 23/06/2017
    • arun kumar jha arun kumar jha 24/06/2017
  7. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 24/06/2017
    • arun kumar jha arun kumar jha 24/06/2017
  8. Kajalsoni 25/06/2017
  9. arun kumar jha arun kumar jha 26/06/2017

Leave a Reply