लिंग बदलो

बचपन में,
बदल देता था
तमाम लिंग।
लड़का-लड़की,
वचन भी बदल देता था,
एक को बहुवचन में।
मास्टर जी-
सीखाते,
लिंग वचन बदलो
और झट से बदल देता था दुनिया के लिंग।
अब जब
बड़ा हो गया हूं
एक लिंग भी नहीं बदल पाता।
स्त्री लिंग-पुंलंग में-
सीखी तालीम,
सब गड़बडत्र हो गई।
िंलंग बोध-
गोया भूल सा गया हूं,
सब के सब नपुंसक लिंग नजर आते हैं।

9 Comments

  1. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar Prasad sharma 22/06/2017
    • kprapanna 23/06/2017
  2. SARVESH KUMAR MARUT SARVESH KUMAR MARUT 22/06/2017
  3. Madhu tiwari Madhu tiwari 22/06/2017
  4. C.M. Sharma babucm 23/06/2017
  5. arun kumar jha arun kumar jha 23/06/2017
  6. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 23/06/2017
    • kprapanna 23/06/2017
  7. kprapanna 23/06/2017

Leave a Reply