रहबर ना मिल सका – शिशिर मधुकर

ज़िंदगी में मिला सब कुछ मगर रहबर ना मिल सका
लाख चाहा हो शाखों ने हसीं गुल पर ना खिल सका

चोट लगने से भी इस ज़िन्दगी में सीख मिलती है
अपने दिल के घावों को मगर मैं तो ना सिल सका

किसी ने प्यार की ताकत से मुकद्दर बदल डाले
वो पत्थर मगर मुझसे तो ज़रा भी ना हिल सका

दर्द सह-सह के भी वो ज़िन्दगी में मुस्कुराता है
तन्हाइयों का ये साथ पर मुझसे ना झिल सका

जहाँ बंजर हो हरियाली वहाँ भी आ ही सकती है
मुर्दा इंसा यहाँ मधुकर मगर कभी ना जिल सका

शिशिर मधुकर

17 Comments

  1. babucm babucm 21/06/2017
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 21/06/2017
  2. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 21/06/2017
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 21/06/2017
  3. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 21/06/2017
  4. raquimali raquimali 21/06/2017
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 21/06/2017
  5. Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 21/06/2017
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 21/06/2017
  6. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 21/06/2017
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 21/06/2017
  7. SARVESH KUMAR MARUT SARVESH KUMAR MARUT 22/06/2017
    • SARVESH KUMAR MARUT SARVESH KUMAR MARUT 22/06/2017
      • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 23/06/2017
  8. angel yadav Anjali yadav 22/06/2017
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 23/06/2017

Leave a Reply