थोड़ा शांत रहना चाहती हूँ – अनु महेश्वरी

थोड़ा शांत रहना चाहती हूँ,
सबकी परवाह तो करती हूँ,
फिर भी थोड़ा खुद को जानना चाहती हूँ,
अपने अंतर मन को थोड़ा टटोलना चाहती हूँ,
क्यों अंधानुकरण करते हम,
यह मनन करना चाहती हूँ,
अपनों के साथ समय बिताना चाहती हूँ,
ज़िन्दगी के मायने फिर से समझना चाहती हूँ,
भागदौड़ से दूर रहकर,
खुशियाँ तलाशना चाहती हूँ,
अपने परायों का फरक समझना चाहती हूँ,
भीड़ से दूर रहकर, इसकी नियत समझना चाहती हूँ
बस थोड़ा शांत रहना चाहती हूँ,
बस थोड़ा शांत रहना चाहती हूँ….

अनु महेश्वरी
चेन्नई

17 Comments

  1. Manoj Khansali (aNVESH) 20/06/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 20/06/2017
      • Manoj "aNVESH 21/06/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 20/06/2017
  2. Madhu tiwari Madhu tiwari 20/06/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 20/06/2017
  3. arun kumar jha Arun Kumar jha 20/06/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 20/06/2017
  4. babucm babucm 21/06/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 21/06/2017
  5. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 21/06/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 21/06/2017
  6. Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 21/06/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 21/06/2017
  7. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 21/06/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 21/06/2017

Leave a Reply