हस्ताक्षर

कई बार रूलाते हैं अपने ही हस्ताक्षर
कई बार हंसाते हैं,
अब देखिए
जब ज्वाईनिंग पत्र पर करते हैं हस्ताक्षर
और जब…
क्या ही मंजर होता है,
जब अपने ही नाम डराते हैं कागजों पर पसरने के बाद।
उन्होंने किए थे
हस्ताक्षर और हो गया
एक बड़ा तक्सीम
आ गए इस पार।
हस्ताक्षर ही तो था,
दोनों के बीच,
तय करती सीमाएं,
चीखें
रातों रात बंट गई थीं
दो अलग जमीन पर।
हस्ताक्षर ही तो होते हैं
जो दोनों को मिलती हैं
और वो भी तो हस्ताक्षर ही होता है
जब मंजर ही कुछ और होता
हस्ताक्षर में क्या रखा,

5 Comments

  1. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar Prasad sharma 19/06/2017
  2. C.M. Sharma babucm 20/06/2017
  3. Madhu tiwari Madhu tiwari 20/06/2017
  4. kaushlendra 20/06/2017

Leave a Reply